शीर्ष अदालत की ‘फटकार’ के बाद प्रधानमंत्री का पद पर रहना उचित नहीं: भाजपा

  • शीर्ष अदालत की ‘फटकार’ के बाद प्रधानमंत्री का पद पर रहना उचित नहीं: भाजपा
You Are HereNational
Saturday, January 11, 2014-6:58 PM

नई दिल्ली: भाजपा ने आज कहा कि कोयला ब्लाक आवंटन मामले में उच्चतम न्यायालय की ‘फटकार’ के बाद प्रधानमंत्री का अपने पद पर बने रहना ठीक नहीं है और सीबीआई को चाहिए कि वह इस संबंध में कोयला राज्य मंत्रियों और प्रधानमंत्री कार्यालय के अधिकारियों की भूमिका की जांच करे।

पार्टी के प्रवक्ता प्रकाश जावडेकर ने यहां कहा, ‘‘कोयला घोटाले की सीबीआई जांच उस रफ्तार से नहीं चल रही है जैसी उम्मीद की जा रही है। इसके अलावा प्रधानमंत्री कार्यालय और कोयला मंत्रालय के संबंधित अधिकारियों से भी पूछताछ नहीं हो रही है। प्रधानमंत्री से पद से हटने की मांग को दोहराते हुए भाजपा ने कहा कि कोयला ब्लाक आवंटन की जांच जारी रहते उनका पद पर बने रहना उचित नहीं है, क्योंकि जब यह कथित घोटाला हुआ उस समय कोयला मंत्रालय का प्रभार उन्हीं के पास था।

मनमोहन सिंह के पास 2006 से 2009 तक कोयला मंत्रालय था और उसी समय ये विवादास्पद आवंटन हुए थे। जावडेकर ने कहा कि आवंटन में कोयला राज्य मंत्री दसारी नारायण राव और संतोष बगरोडिया की भूमिका की भी जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार को कम से कम यह तो बताना ही चाहिए कि विवादास्पद कोल ब्लाक आवंटनों के लिए कौन लोग जिम्मेदार हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You