लोगों को यकीन, सरकार दूर करेगी कष्ट

  • लोगों को यकीन, सरकार दूर करेगी कष्ट
You Are HereNcr
Sunday, January 12, 2014-2:03 PM

नई दिल्ली: जनता दरबार में मुख्यमंत्री व अन्य मंत्रियों से अपनी शिकायतों का जल्द समाधान किए जाने का आश्वासन मिलने के बाद ज्यादातर लोग खुद को भाग्यशाली मान रहे थे। उनका कहना था कि उन्हें विश्वास है कि अब आप के नेता उनकी समस्याओं का समाधान कर देंगे। संगम विहार इलाके में जल आंदोलन चलाने वाले डा. सिराजुद्दीन ने बताया कि उन्होंने मुख्यमंत्री से आग्रह किया है कि मदनगीर इलाके में भी गंगाजल की आपूर्ति शुरू कराई जानी चाहिए।

उन्होंने बताया कि पिछली सरकार ने वादा तो किया था लेकिन सालों बीतने के बाद भी उसे पूरा नहीं किया। डा. सिराजुद्दीन ने बताया कि अरविंद केजरीवाल ने विश्वास दिलाया है कि इसके लिए वह सर्वे करावाएंगे, और जल्द ही इस मांग को पूरा कर दिया जाएगा। पूर्वी दिल्ली के मंडावली से आई सुनीता कपूर साढ़े नौ बजे होने वाली मुलाकात के लिए सुबह में छह बजे ही सचिवालय पहुंच गयीं। उन्होंने केजरीवाल से भेंट की और अपने फ्लैट पर अवैध कब्जे के बारे में शिकायत की। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री की ओर से मुझे आश्वासन मिला कि मेरे साथ न्याय होगा।

खिचड़ीपुर निवासी ललित अपने काफी साथियों के साथ दिल्ली के मंत्री सोमनाथ भारती से मिलकर जब लौटे तो उनका कहना था वह संतुष्ट हैं। इन लोगों ने शिकायत की थी कि करीब 200 लोग दिल्ली टूरिज्म के अंतर्गत शराब की दुकानों पर 2002 से काम कर रहे हैं। सभी के वेतन से पी.एफ. तक काटा जा रहा है, लेकिन आज तक सभी कर्मचारी अस्थाई हैं। ललित ने बताया कि मंत्री ने आश्वासन दिया है कि सम्बंधित अधिकारियों से फाइल देखने के बाद कर्मचारियों के हित में कदम उठाएंगे।

ओखला निवासी निजहत ने शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया को बताया कि दिल्ली सरकार की उर्दू अकादमी के अंतर्गत 150 से अधिक अध्यापक विभिन्न स्कूलों में पढ़ाते हैं, लेकिन सभी को काफी अर्से से आधे से भी कम वेतन दिया जाता है। उन्होंने बताया कि शिकायत पत्र को पढऩे के बाद शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने अध्यापकों को विश्वास दिलाया है कि उनके वेतनमान में हो रही असंगति और भेदभाव को दूर किया जाएगा।

जनता दरबार में सिसोदिया को अपनी शिकायत सुनाने वाली निजहत पहली शिकायतकर्ता थीं।मैदानगढ़ी से पहुंचे दलीप सिंह ने शहरी विकास मंत्री मनीष सिसोदिया से शिकायत की, कि पिछली सरकार ने 180 लोगों की जमीन तो अधिग्रहीत कर ली थी, लेकिन वैकल्पिक प्लाट आज तक अलॉट नहीं किए हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You