राज्यों को शिंदे की सलाह संविधान का उल्लंघन: बीजेपी

  • राज्यों को शिंदे की सलाह संविधान का उल्लंघन: बीजेपी
You Are HereNational
Sunday, January 12, 2014-2:34 PM

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) ने केन्द्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे की राज्यों के मुख्यमंत्रियों को अल्पसंख्यकों के खिलाफ आपराधिक मामलों का आकलन करने संबंधी सलाह को खारिज करते हुए इसे संविधान का उल्लंघन करार दिया है। भाजपा की राष्ट्रीय प्रवक्ता निर्मला सीतारमन ने आज यहां संवाददाताओं से कहा कि शिंदे की राज्यों को अल्पसंख्यक युवाओं के आपराधिक मामलों का आकलन करने संबंधी सलाह सीधे सीधे संविधान का उल्लंघन है और पार्टी इसकी घोर निंदा करती है।

शिंदे ने कहा है कि वह राज्यों के मुख्यमंत्रियों को अल्पसंख्यक समुदाय के युवाओं के आपराधिक मामलों के आकलन के लिए एक लिखित सलाह भेज रहे हैं। भाजपा नेता ने कहा कि पार्टी को शिंदे की सलाह को लेकर तीन बडी आपत्तियां हैं। पहली संविधान में किसी भी अपराध के लिए धर्म के आधार पर फैसला नहीं हो सकता। अपराधी अपराधी होता है। उन्होंने कहा कि संविधान का अनुच्छेद 14 सभी को बराबरी का अधिकार देता है इसलिए शिंदे की यह सलाह संविधान का उल्लंघन है।

उन्होंने कहा कि दूसरे आपराधिक मामलों के निपटारे की प्रणाली में केन्द्र सरकार या राज्य सरकार मामले के आकलन की बात नहीं कह सकती। सरकारी अभियोजन इस तरह की बात कह सकता है। तीसरे केन्द्र सरकार इस तरह के कदम उठाकर वोट बैंक की राजनीति करना चाहती है जिसकी भाजपा कडी ङ्क्षनदा करती है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You