सर्दियों में बढ़ा ड्राई आई सिंड्रोम का प्रकोप

  • सर्दियों में बढ़ा ड्राई आई सिंड्रोम का प्रकोप
You Are HereNcr
Sunday, January 12, 2014-2:58 PM

नई दिल्ली (निहाल सिंह ): भीषण ठंड के प्रकोप से बचाने के लिए हम मोटे-मोटे गर्म कपड़ों का सहारा तो लेते हैं,लेकिन आंखों की सुरक्षा के प्रति हमारा ध्यान नहीं जाता। आंखें हमेशा बिना ढकी ही रहती हैं,जिसकी वजह से सर्दियों में आंखों में ड्राई आई सिंड्रोम का खतरा चार गुणा बढ़ जाता है। सर्दियों में ड्राई आई सिंड्रोम एक सामान्य समस्या की अनदेखी करने पर समस्या भंयकर रूप ले सकती है। मरीज की आंखों की दृष्टि भी जा सकती है।

एम्स के डॉ राजेंद प्रसाद आई सेंटर के अध्यक्ष डॉ वी. आजाद कहते हैं कि सर्दियों की ठंडी हवाएं आंखों को बुरी तरह से प्रभावित कर सकती हैं,जिसे ड्राई आई सिंड्रोम होने का खतरा बढ़ जाता है। जब आंखों में पर्याप्त चिकनाई नहीं होती और कंजक्टीवा में सामान्य से कम नमी रह जाती हैं। इससे अपर्याप्त आंसू निकलने से आखों के कंजक्टीवा और आंखों की पुतली में अत्यधिक दर्द, तकलीफ और जलन महसूस होती है। कई बार यह दुष्प्रभाव इतना उग्र रूप ले लेता है कि इस खामी के चलते ऑक्यूलर सतह में बाधा उत्पन्न हो जाती है, जिससे देखने में कठिनाई पैदा हो जाती है।

ड्राई आई सिंड्रोम के नुकसान: फोर्टिस अस्पताल के ऑफथलमॉलॅाजी विभाग के निदेशक नेत्र रोग विषेशज्ञ डा. संजय धवन बताते हैं कि आंखों में अत्यधिक दर्द, धुंधला दिखाई देना, खुजली महसूस होना,जलन महसूस होना, शुष्क आंखों के लक्षण, आंखों में लगातार बहाव,अत्यधिक आंसू निकलना एवं कांटेक्ट लेंस प्रयोग से संबंधित जलन हो सकती है।यह स्थिति 50 वर्ष से अधिक आयु वाले पुरुषों में और 55-60 वर्ष  की आयु वाली महिलाओं में सामान्य रूप से देखी जाती है।

शुष्क आखों से कैसे बचें-
डॉ धवन बताते हैं कि मरीजों को ठंडी हवाओं और अत्यधिक रोशनी से अपनी आंखों की रक्षा करने के लिए धूप के चश्मे का प्रयोग करना चाहिए। सोते समय नमी प्रदान करने वाली क्रीम प्रयोग की जानी चाहिए, कुछ मिनटों के लिए एक गर्म, गीला साफ कपड़ा अपनी आंखों की पलकों के चारों ओर रखें अपनी खाने में अधिक ओमेगा-3 फैटी एसिड या मछली के तेल का प्रयोग करें, एक विशेष प्रकार के चश्मे को पहनकर भी नमी को बरकरार रखा जा सकता है। यह चश्में आंखों के चारों ओर एक चैंबर का निर्माण कर देते हैं, पर्याप्त मछली और ऐसे खाद्य पदार्थ खाएं जिसमें विटामिन ए,सी,ई और ओमेगा-3 फैटी एसिड हों,अधिक पानी पिएं और पर्याप्त आराम करें।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You