मुजफ्फरनगर शिविरों में हुई मौतों का मामला: मंत्री ने फिर कहा, मौत शाश्वत है

  • मुजफ्फरनगर शिविरों में हुई मौतों का मामला: मंत्री ने फिर कहा, मौत शाश्वत है
You Are HereNational
Sunday, January 12, 2014-7:03 PM
बलिया(लखनऊ): मुजफ्फरनगर के राहत शिविरों मेंं हुई मौतों को लेकर दिए गए बयान को लेकर विपक्षी आलोचानाओं से घिरे उत्तर प्रदेश के खेल कूद व युवा कल्याण मंत्री नारद राय ने आज फिर दोहराया है कि मौत शाश्वत है तथा इसे कोई भी टाल नहीं सकता। खेलकूद मंत्री ने आज दूरभाषा पर बातचीत में सफाई देते हुए कहा कि मुजफ्फरनगर के राहत शिविर में सरकारी अव्यवस्था के चलते कोई मौत नहीं हुई है।
 
उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने राहत शिविर में रहने, खाने व इलाज के पुख्ता इंतजाम किए हैं। इसके बाद भी अगर मौतें हुई हंै तो इस पर हम संवेदना व्यक्त करते हैं। मौत शाश्वत है। सारी सुविधाएं होने के बाद भी मौत होती है। इसे कोई टाल नहीं सकता। इस सत्य को सभी को स्वीकार करना चाहिए।
 
 खेलकूद मंत्री नारद राय ने कहा कि मुजफ्फरनगर दंगा व राहत शिविर में हुई मौत को सैफई महोत्सव के साथ जोड़ कर नहीं देखा जाना चाहिए। मीडिया गलत तरफ फोकस कर रहा है। मीडिया ने यह नहीं दिखाया कि सैफई महोत्सव में ओलम्पिक 2012 के विजेता खिलाडियों को पुरस्कार दिया गया। इसमें फुटबाल, बालीवाल व कुश्ती प्रतियोगिता हुई। 
 
मंत्री नारद राय ने कहा कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने साइकिल चलाकर खिलाडियों की हौसला आफजाई की। उन्होंने कहा कि सांस्कृतिक कार्यक्रम में कौन आया गया, मीडिया इसे दिखा रहा है। इसके लिए वह मीडिया की भत्र्सना करते हैं। उन्होंने कहा कि मीडिया सरकार की कमियों को उजागर करे, लेकिन साथ ही उसे सकारात्मक पक्ष को भी सामने लाना चाहिए।  इस बीच विपक्षी दलों ने राय के बयान की आलोचना करते हुए इसे सत्तारूढ समाजवादी पार्टी सरकार और इसके नेताओं की संवेदनहीनता का प्रमाण बताया है।
 
भाजपा प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने कहा, मंत्री महोदय को अपनी सरकार की चूक और लापरवाही माननी चाहिए थी, मगर वे बेहद संवेदनहीन तरीके से सरकार का बचाव कर रहे हैं।’’  वरिष्ठ कांग्रेस नेता और विधायक अखिलेश प्रताप सिंह ने कहा कि यह सरकार निहायत संवेदनहीन है और जनता के दुख दर्द के प्रति इसका रवैया अमानवीय है।  उन्होंने कहा कि यदि मौत शाश्वत है और टाली ही नही जा सकती, तो सरकार को सारी स्वास्थ्य सेवाएं बंद कर देनी चाहिए।  सिंह ने कहा कि यह सरकार लोकप्रिय सरकार नहीं है, बस चुनी हुई सरकार है जिसे गरीबों और अल्पसंख्यकों की तकलीफों की चिंता नहीं है। उन्होंने कहा कि अखिलेश सरकार को अपने मंत्री के बयान के लिए माफी मांगनी चाहिए। 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You