भ्रष्ट कर्मी भुगतेंगे करनी का फल: शिवराज

  • भ्रष्ट कर्मी भुगतेंगे करनी का फल: शिवराज
You Are HereNational
Sunday, January 12, 2014-11:08 PM

भोपालः मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य में किसी भी कीमत पर और किसी भी स्तर पर भ्रष्टाचार को बर्दाश्त न किए जाने का संकल्प दोहराते हुए कहा कि सरकारी स्तर पर भ्रष्टाचार में लिप्त लोगों को अपनी करनी का फल भुगतना होगा।
 
मुख्यमंत्री शिवराज ने विवेकानंद जयंती पर अलिराजपुर और झाबुआ में रैली के बीच ‘आओ बनाएं मध्य प्रदेश’ अभियान की शुरुआत की। उन्होंने प्रशासन के अधिकारियों को सचेत करते हुए कहा कि वे जहां ईमानदार और कर्तव्यनिष्ठ अधिकारियों, कर्मचारियों को गले लगाएंगे वहीं कर्तव्य विमुख और कदाचरण करने वाले अमले की खैर नहीं होगी। उसे अपनी करनी का फल भुगतना होगा। राज्य की धरती पर भ्रष्टाचार को सहन नहीं किया जाएगा।
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा जनता का भावनात्मक शोषण किया है। उसने वादों और नारों में जनता को उलझाकर रखा। कांग्रेस ने प्रधानमंत्री से झाबुआ को रेल से जोडऩे की घोषणा कराई थी लेकिन आज तक यहां रेललाइन का न तो पता है, न रेल लाइन के विस्तार की योजना कहीं सर्वेक्षण में ही शामिल की गई है। यह झाबुआ की जनता के साथ विश्वासघात है और जनता इसका लोकसभा चुनाव में करारा जवाब देगी। उन्होंने ने वादा किया कि प्रदेश की साढ़े सात करोड़ जनता की भलाई के लिए उनके जीवन का एक-एक क्षण सेवा में समर्पित होगा। यह काम सबको मिलजुल कर सहभागिता के साथ करना होगा। मुख्यमंत्री शासक नहीं, प्रदेश का प्रथम सेवक होगा।

उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की करनी और कथनी में समानता है। उसने अपने 10 वर्षों के कार्यकाल में तमाम प्रयास किए हैं और आने वाले दिनों में सिंचाई की योजनाओं को अमल में लाकर झाबुआ को गेहूं के उत्पादक क्षेत्र के रूप में विकसित किया जाएगा। बारिश का पानी रोकने के लिए जल संरक्षण योजनाओं पर अमल होगा, जिससे जल स्तर बढ़ेगा। सिंचाई सुविधाओं में वृद्धि होगी। उन्होंने जनता से आग्रह किया कि वे बच्चों को शिक्षा दिलाएं, सरकार पाठ्य-पुस्तकों से लेकर अन्य सुविधाएं सुलभ कराएगी, उत्कृष्ट छात्र-छात्राओं को लैपटॉप देकर उनके हाथ में ज्ञान-विज्ञान की कुंजी सौंपेगी।
 
शिवराज ने कहा कि मध्य प्रदेश की धरती पर कोई भूखा नहीं रहे, इसके लिए राज्य सरकार ने निर्णय लिया है कि प्रत्येक मेहनतकश को सूची में शामिल कर एक रुपये किलो गेहूं और चावल प्राप्त करने का हक दिया जाएगा। इससे एक दिन की मजदूरी में उसका माहभर का राशन आएगा और शेष में वह अपने परिवार की सुख-सुविधाओं के लिए अन्य वस्तुएं खरीद कर अपने जीवन स्तर को सुधारेगा।
 
चौहान ने प्रत्येक घर में शौचालय की आवश्यकता को रेखांकित किया और कहा कि इसके लिए शासकीय सुविधा का भरपूर लाभ उठाएं। मिलजुलकर जिले की तरक्की करें, जिससे स्वर्णिम मध्य प्रदेश के निर्माण में सबकी भागीदारी हो और हर नागरिक को स्वर्णिम मध्य प्रदेश बनाने का गौरव प्राप्त हो। उन्होंने विश्वास दिलाया कि आने वाले पांच वर्षों में हर घर परिवार में खुशहाली और उजाला आएगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You