लॉ इंटर्न की अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को होगी सुनवाई

You Are HereNational
Monday, January 13, 2014-2:23 PM

नई दिल्ली: न्यायमूर्ति स्वतंत्र कुमार पर यौन प्रताडऩा का आरोप लगाने वाली कानून की एक पूर्व इंटर्न सेवानिवृत्त न्यायाधीश के खिलाफ जांच की मांग को लेकर आज उच्चतम न्यायालय पहुंची।प्रधान न्यायाधीश पी. सदाशिवम की अध्यक्षता वाली पीठ, जिसके समक्ष मामला तत्काल सुनवाई के लिए उल्लिखत था, मामले पर 15 जनवरी को सुनवाई करने पर सहमत हुई।

इंटर्न ने अपनी याचिका में न्यायाधीशों की बैठक में पांच दिसंबर को पारित उस प्रस्ताव को चुनौती दी है जिसमें शीर्ष अदालत के सेवानिवृत्त न्यायाधीशों के खिलाफ दायर शिकायतों पर सुनवाई नहीं करने का फैसला किया गया था।

याचिकाकर्ता ने यह भी निवेदन किया कि इस तरह के मामलों में जांच के लिए एक उपयुक्त फोरम गठित किया जाना चाहिए और उसकी शिकायत को भी शीर्ष अदालत द्वारा देखा जाना चाहिए जैसा कि यह न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) एके गांगुली के खिलाफ यौन उत्पीडऩ के आरोपों में किया गया था।

इंटर्न ने उच्चतम न्यायालय के महासचिव और भारत सरकार को मामले में पक्ष बनाया है । उसने कहा कि न्यायमूर्ति कुमार कथित घटना के समय मौजूदा न्यायाधीश थे और शीर्ष अदालत को विशाखा दिशा निर्देशों के अनुसार शिकायत को देखना चाहिए। वर्तमान में राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण का नेतृत्व कर रहे न्यायमूर्ति कुमार ने आरोपों को ‘‘संदिग्ध और झूठा’’ तथा ‘‘एक तरह का षड्यंत्र’’ करार दिया है।

 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You