सादगी से मनायेंगी मायावती अपना जन्मदिन

  • सादगी से मनायेंगी मायावती अपना जन्मदिन
You Are HereNational
Monday, January 13, 2014-2:27 PM

लखनऊ: सैफई महोत्सव से समाजवादी पार्टी की हुई जबरदस्त आलोचना से सबक लेते हुए बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने आगामी 15 जनवरी को अपना जन्मदिन सादगी से मनाने का निर्णय लिया है। बसपा के एक वरिष्ठ नेता ने आज यहां (यूनीवार्ता) को बताया कि राहत शिविरों में रह रहे मुजफ्फरनगर दंगा पीडितों की बेबसी को देखते हुए मायावती ने निर्णय लिया है कि वह अपना जन्मदिन सादगी से मनायेगी लेकिन महारैली योजना के मुताबिक ही होगी। राहत शिविरों में रह रहे मुजफ्फ रनगर दंगा पीडितों की दुर्दशा के बीच मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के पैतृक गांव इटावा जिले के सैफई में धूमधाम से हुए महोत्सव को लेकर सपा की जमकर आलोचना हुई। माना जा रहा है कि इसे देखते हुए मायावती ने अपना 58वां जन्मदिन सादगी से मनाने का निर्णय लिया है। सैफई महोत्सव के अंतिम दिन फिल्मी कलाकारों का जमावडा लगा था। माधुरी दीक्षित और सलमान खान जैसे चोटी के कलाकार आये थे।

 इन कलाकारों की प्रस्तुतियों को मुजफ्फरनगर दंगा पीड़ितों से जोड़कर दिखाया गया और सपा की जमकर आलोचना हुई। इस बीच सूत्रों ने बताया कि रैली की तैयारियां जोरों पर है रैली रमाबाई अम्बेडकर स्थल के मैदान पर होगी। मायावती रैली के माध्यम से लोकसभा चुनाव प्रचार अभियान की शुरआत करेंगी। रैली में उत्तर प्रदेश के साथ ही महाराष्ट्र, पंजाब, हरियाणा, मध्य प्रदेश, राजस्थान, गुजरात और आन्ध्र प्रदेश समेत देश के अन्य भागों से लोगों के पहुंचने की उम्मीद है। रैली स्थल पर ही मायावती मेरे संघर्षमयी जीवन एवं बसपा मूवमेंट के सफरनामा भाग 9. का विमोचन भी करेंगी। रैली के लिए 23 विशेष रेलगाडियों को बुक कराया गया है। सूत्रों के मुताबिक बुक करायी गयी प्रत्येक रेलगाडियों में 18 डिब्बे होंगे। बसपा सूत्रों ने बताया कि रेलवे प्रशासन ने उन्हें अतिरिक्त काउंटर खोलने के साथ ही सफर के दौरान पानी व साफ सफाई करने का वायदा किया है। उन्होंने बताया कि रेलवे के लखनऊ मण्डल, मुरादाबाद, फिरोजपुर, दिल्ली और अम्बाला मण्डलों से रेलगाडियां बुक करायी गयी हैं।

एक अनुमान के मुताबिक रेलवे को इससे करीब साढे तीन करोड की अतिरिक्त आमदनी होगी। सूत्रों ने बताया कि लोकसभा चुनाव के मद्देनजर पार्टी रैली के माध्यम और बसपा अध्यक्ष मायावती के जन्मदिन पर चंदा एकत्रित कर सकती है ताकि चुनाव में पैसे की कमी न रह जाये। माना जा रहा है कि चुनाव की ²ष्टि से मायावती अपने जन्मदिन पर कार्यकर्ताओं से उपहार भी ले सकती हैं। उन्होंने बताया कि रैली को ऐतिहासिक बनाने के लिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र से पांच हजार लोगों को लक्ष्य रखा गया है। रैली को देखते हुए बसपा कार्यकर्ता रैलीस्थल के आस पास के क्षेत्र को झंडियों, पोस्टर, बैनर और होॄडग्स के जरिये, बसपा कलर,  देने में लगे हुए हैं। गौरतलब है कि मायावती की 2012 में सत्ता जाने के बाद यह उनकी पहली रैली है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You