मप्र पर है 92 हजार करोड़ रुपये का कर्ज: कांग्रेस

  • मप्र पर है 92 हजार करोड़ रुपये का कर्ज: कांग्रेस
You Are HereNational
Monday, January 13, 2014-4:27 PM

भोपाल: मध्य प्रदेश कांग्रेस ने राज्य की भाजपा सरकार पर खराब वित्तीय प्रबंधन का आरोप लगाते हुए कहा है कि दस साल पहले जब कांग्रेस ने सत्ता छोड़ी थी उस समय का 22 हजार करोड़ रुपये का कर्ज अब बढ़कर 92 हजार करोड़ रुपये हो गया है। प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष लक्ष्मण सिंह ने आज यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘भाजपा सरकार का वित्तीय प्रबंधन इतना गडबड़ा गया है कि हमारे समय का 22 हजार करोड़ रुपये का कर्ज अब बढ़कर 92 हजार करोड़ रूपये हो गया है।’’

 

उन्होंने कहा कि प्रदेश के वित्तीय हालात इतने बदतर हो गए हैं कि सरकार को अपने कर्मचारियों को वेतन बांटने के लिए भी बाहर से एक हजार करोड़ रुपये का कर्ज लेना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि ऐसे में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा ‘आओ बनाएं मध्यप्रदेश’ नामक यात्रा निकलने का कोई औचित्य नहीं है। सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान को यह साफ करना चाहिए कि 92 हजार करोड़ रुपये के कर्ज के साथ वह स्वर्णिम मध्यप्रदेश बनाने की बात कैसे कर सकते हैं।

 

मुख्यमंत्री का यह कहना भी गलत है कि केन्द्र सरकार प्रदेश को वांछित मदद नहीं दे रही है। स्वास्थ्य के क्षेत्र में राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के तहत केन्द्र से आया 500 करोड़ रुपया अब तक उपयोग ही नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि इसी प्रकार केन्द्र से गैस राहत की दवाओं के लिए आया 58 लाख रुपया कथित तौर पर प्रदेश के स्वास्थ्य संचालक के व्यक्तिगत बैंक खाते में क्यों और कैसे रखा हुआ है। जिस नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) की रिपोर्ट पर भाजपा ने संसद की कार्यवाही बाधित की थी। जब वही सीएजी मध्यप्रदेश के मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में कमी के सरकार के दावे खोखले बताता हैं तो वह चुप्पी क्यों साध लेती है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You