विकास की रफ्तार बरकरार रखने के लिए उर्जा की आवश्यकता: मनमोहन

  • विकास की रफ्तार बरकरार रखने के लिए उर्जा की आवश्यकता: मनमोहन
You Are HereNational
Monday, January 13, 2014-8:43 PM

गोरखपुर: ‘स्वच्छ’ और ‘भरोसेमंद’ परमाणु उर्जा के व्यापक इस्तेमाल की वकालत करते हुए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आज साफ कर दिया कि विकास की गति को कायम रखने के लिए भारत को अधिक मात्रा में उर्जा की आवश्यकता होगी। वैश्विक आर्थिक मंदी रहने के बावजूद विगत 10 वर्षों में भारत की औसत आर्थिक वृद्धि दर 7.9 फीसदी रही।

गोरखपुर में 2800 मेगावाट की परमाणु बिजली संयंत्र की आधारशिला रखते हुए उन्होंने कहा कि प्रदूषण को नियंत्रण में रखने के दौरान देश को हर तरह के उर्जा के स्रोतों का इस्तेमाल करना होगा ताकि पर्यावरण प्रभावित नहीं हो। परमाणु संयंत्र की आधारशिला रखने के बाद एक सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘संप्रग के कार्यकाल में औसत वृद्धि दर 7.9 फीसदी रही है।

हम दो बार वैश्विक मंदी का दौर रहने के बावजूद उच्च वृद्धि बरकरार रख सके। हालांकि, हम इस वृद्धि की रफ्तार को तभी बरकरार रख सकते हैं जब हम खासतौर पर उद्योग, घरों और कृषि क्षेत्र को बिजली और खासतौर पर उर्जा की आपूर्ति करने में सक्षम होंगे।’’ सिंह ने कहा, ‘‘हमारी बढ़ती बिजली की मांगों को पूरा करने के लिए लंबा रास्ता तय करना है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमें पनबिजली, तापविद्युत, गैस, पवन, सौर और परमाणु उर्जा समेत उर्जा के उपलब्ध सभी स्रोतों का इस्तेमाल करना है।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You