जेड श्रेणी सुरक्षा लेने से फिर किया इंकार

  • जेड श्रेणी सुरक्षा लेने से फिर किया इंकार
You Are HereNational
Tuesday, January 14, 2014-1:00 AM

नई दिल्ली/ गाजियाबाद : दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जेड श्रेणी सुरक्षा लेने से साफतौर पर इंकार कर दिया है। केजरीवाल का कहना है कि उनकी जान को कोई खतरा नहीं है।सोमवार को भी केजरीवाल बिना सुरक्षा के ही कौशांबी स्थित अपने गिरनार अपार्टमैंट से दिल्ली के लिए रवाना हो गए। बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार से आदेश मिलने के बाद गाजियाबाद पुलिस के एक डी.एस.पी. रणविजय सिंह अरविंद केजरीवाल को जेड सुरक्षा कवच देने के लिए उनके निवास स्थान पहुंचे थे।

जहां डी.एस.पी. को सी.एम. केजरीवाल ने सुरक्षा लेने से इंकार कर दिया। खास बात यह है कि एक ओर दिल्ली के सी.एम. किसी भी तरह की सुरक्षा लेने से पहले से ही इंकार कर रहें है लेकिन आई.बी. रिपोर्ट्स में खुलासा हुआ है कि अरविंद केजरीवाल की जान को दिल्ली के तेल व पानी माफियाओं से खतरा है।

डी.एस.पी. रणविजय सिंह ने बताया कि प्रदेश सरकार का आदेश मिलने के बाद एस.एस.पी. धर्मेन्द्र सिंह के आदेश पर दिल्ली के सी.एम. अरविंद केजरीवाल को जेड श्रेणी सुरक्षा मुहैया कराने के लिए वह 30 पुलिसकर्मियों व 2 स्कवॉयड के साथ सोमवार सुबह गिरनार अपार्टमैंट पहुंचे थे। जहां केजरीवाल ने सुरक्षा लेने से इंकार कर दिया।

डी.एस.पी. का कहना है कि केजरीवाल के इंकार के बावजूद गाजियाबाद पुलिस उन्हें सुरक्षा मुहैया करवाएगी। शासन के आदेश पर दिल्ली के सी.एम. की जेड श्रेणी सुरक्षा के तहत 2 सब इंस्पैक्टर के अलावा करीब 30 पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है।

इसके अलावा उनकी सुरक्षा में 2 स्कवॉयड को भी लगाया गया है। डी.एस.पी. ने बताया कि एल.आई.यू. की टीम भी केजरीवाल की सुरक्षा पर निगरानी बनाए रखेगी। इसके अलावा सूत्रों की मानें तो इंटैलीजेंस ब्यूरो (आई.बी.) की रिपोर्ट्स में खुलासा हुआ है कि दिल्ली के सी.एम. अरविंद केजरीवाल की जान को दिल्ली के तेल व पानी माफियाओं से जान का खतरा है।

आई.बी. ने दिल्ली के एल.जी., केन्द्र व उत्तर प्रदेश सरकार को भेजी अपनी रिपोर्ट में यह खुलासा किया है। आई.बी. ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि दिल्ली के तेल व पानी माफिया अपने कारोबार में कायम वर्चस्व को छोडऩा नहीं चाहते, वह केजरीवाल को कारोबार के लिए खतरा मान रहें हैं। जिसके चलते माफिया केजरीवाल की हत्या कर सकते हैं।

 गौरतलब है कि आम आदमी पार्टी कार्यालय पर हिन्दु संगठनों द्वारा किए हमले के बाद गाजियाबाद पुलिस सी.एम. की सुरक्षा को लेकर कोई रिस्क नहीं लेना चाहती थी, इसलिए सी.एम. को जेड श्रेणी सुरक्षा प्रदान करने के लिए गाजियाबाद पुलिस की ओर से एक प्रस्ताव शासन को भेजा गया था जिस पर शासन ने अपनी रजामंदी गाजियाबाद पुलिस को दे दी।

बता दें कि कौशांबी स्थित आप पार्टी के मुख्यालय पर गत 8 जनवरी बुधवार को दोपहर करीब साढ़े 12 बजे ङ्क्षहदू रक्षा दल व श्रीराम सेना के नेताओं व कार्यकत्र्ताओं ने लाठी-डंडों से लैस होकर हमला किया था, इतना ही नहीं इन्होंने कार्यालय में जमकर तोडफ़ोड़ भी की थी। इस हमले के आरोपी भूपेंद्र तोमर उर्फ पिंकी चौधरी समेत 13 लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया था। ङ्क्षहदू संगठन के नेताओं का आरोप था कि आप पार्टी के नेता प्रशांत भूषण के जम्मू-कश्मीर पर दिए गए विवादित बयान को लेकर ये हमला किया गया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You