विधानसभा चुनाव के समीकरण से बनेगा जीत का गणित

  • विधानसभा चुनाव के समीकरण से बनेगा जीत का गणित
You Are HereNcr
Tuesday, January 14, 2014-1:56 PM

नई दिल्ली (सतेन्द्र त्रिपाठी): चांदनी चौक सीट पर अपना कब्जा हासिल करने की तैयारी में जुटी भाजपा फूंक-फूंककर कदम रख रही है। विधानसभा चुनाव के समीकरण पर गहन अध्ययन किया जा रहा है। इस लोकसभा सीट पर भाजपा के खाते में 3 विधानसभा आई थी। इतना ही नहीं 6 सीटों पर भाजपा दूसरे नंबर रही थी।

केवल एक सीट पर चौथा स्थान हासिल हुआ था। भाजपा को लग रहा है कि बनिया बाहुल्य सीट पर विधानसभा चुनाव के परिणाम से कुछ सीख लेकर जीत दर्ज की जा सकती है। इस सीट पर भाजपा के 4 दिग्गज टिकट की जोर-आजमाइश कर रहे हैं। चांदनी चौक लोकसभा सीट पर फिलहाल कांग्रेस के दिग्गज केन्द्रीय मंत्री कपिल सिब्बल का कब्जा है।

उन्होंने भाजपा की टी.वी. स्टार स्मृति ईरानी को हराया था। इस सीट का पुराना इतिहास देखें तो 1977 में सिकंदर बख्त, 1988 में ताराचंद खंडेलवाल, 1996 और 1998 में विजय गोयल 2 बार जीत चुके है। उस वक्त यह दिल्ली की सबसे छोटी लोकसभा सीट थी। इस सीट पर मात्र चार विधानसभा थी। 3 लाख से कुछ अधिक वोट ही इसके खाते में आते थे।

नए परिसीमन में इस सीट पर भी 10 विधानसभा कर दी गई है। हाल ही में सम्पन्न हुए विधानसभा चुनाव का गणित देखने से पता चला है कि इस 10 में 3 भाजपा, 4 आप व 2 कांग्रेस व 1 जदयू के खाते में गई है। कांग्रेस व आप द्वारा जीती गई 6 सीटों पर भाजपा नंबर 2 पर रही है। केवल मुस्लिम बाहुल्य मटिया महल सीट पर भाजपा चौथे नंबर पर थी।

इस लोकसभा सीट पर 13,82847 वोट है। विधानसभा चुनाव में 67 फीसदी वोट पड़े जो कि कुल 9,35613 वोट है। इसमें सबसे अधिक वोट आप पार्टी को 299943 वोट मिले है। दूसरे नंबर भाजपा 293080 वोटों के साथ 6 हजार से कुछ अधिक वोटों से आप से पीछे है। कांग्रेस को मात्र 243082 वोट हासिल हुए। भाजपा सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस के खिलाफ माहौल से भाजपा को फायदा हो सकता है। विधानसभा चुनाव में टिकट बंटवारे में कमियों से दिक्कत हुई है।

शकूरबस्ती में श्यामलाल गर्ग, शालीमार बाग से रविन्द्र बंसल, मॉडल टाऊन से बाहरी उम्मीदवार अशोक गोयल व सदर बाजार से गुर्जर प्रत्याशी जय प्रकाश को उतारना महंगा पड़ा। सदर बाजार से प्रवीन जैन बनिया उम्मीदवार बेहतर हो सकते थे। बल्लीमारान सीट पर भाजपा के मोतीलाल सोढ़ी व इस्माल की आपसी गुटबाजी हावी रही। लेकिन मोदी फैक्टरी में दोनों मिलकर काम करेंगे। चांदनी चौक में हरिओम गुप्ता व सुमन गुप्ता के बीच टिकट का मुकाबला था। टिकट में तो सुमन जीत गए, लेकिन चुनाव हार गए। इस सीट को उम्मीदवारों पर नजर डालें तो सुंधाशु मित्तल का दावा बेहद मजबूत नजर आता है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You