राजस्थान के प्रमुख मंदिरों का योजनाबद्घ विकास हो: राजे

  • राजस्थान के प्रमुख मंदिरों का योजनाबद्घ विकास हो: राजे
You Are HereNational
Thursday, January 16, 2014-9:46 AM

जयपुर:  राजस्थान के प्रत्येक जिले में एक या दो प्रमुख मंदिर एवं धार्मिक स्थलों को चिन्हित कर उनका जयपुर खोले के हनुमान मंदिर की तर्ज पर विकास किया जायेगा। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने आज देवस्थान विभाग की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए यह निर्देश दिये है।

उन्होंने कहा कि आस्था के इन केन्द्रों पर श्रद्घालुओं एवं पर्यटकों की सुविधा के लिये पार्किंग, आवागमन, आवास सहित अन्य सुविधाओं को भी विकसित किया जायेगा। उन्होंने देवस्थान विभाग की किराया नीति, सुपुर्दगी नीति व खनिज नीति की समीक्षा कर इसे बेहतर बनाने ,वरिष्ठ नागरिक तीर्थयात्रा योजना की कमियों को दूर करने के लिये मध्यप्रदेश पैटर्न का अध्ययन कर उसके अनुरूप तीर्थयात्रियों के लिये इसमें सुधार करने के निर्देश दिए है। अधिकारिक सूत्रों के अनुसार बैठक में यह तय किया गया कि ज्योतिष, पूजापाठ व कर्मकाण्ड के अध्ययन के लिये आदि शंकराचार्य बोर्ड का गठन कर इसका संचालन जगद्गुरू रामानन्दचार्य संस्कृत विश्वविद्यालय के माध्यम से कराया जायेगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You