‘आप’ पर बिन्नी का हमला तेज, कहा केजरीवाल हैं ‘तानाशाह’

  • ‘आप’ पर बिन्नी का हमला तेज, कहा केजरीवाल हैं ‘तानाशाह’
You Are HereNational
Thursday, January 16, 2014-7:41 PM

नई दिल्ली : आप विधायक विनोद कुमार बिन्नी ने एक और हमला करते हुए आज आरोप लगाया कि पार्टी ने अपने चुनावी वायदों से पीछे हटकर दिल्ली के लोगों को धोखा दिया है। उन्होंने मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को ‘तानाशाह’ कहा।

पिछले महीने मंत्री पद नहीं मिलने से सार्वजनिक तौर पर अपनी नाराजगी जता चुके बिन्नी ने आज यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित किया और विभिन्न मुद्दों पर पार्टी नेतृत्व की निन्दा की। उन्होंने कहा कि सरकार बनाने के लिए कांग्रेस का समर्थन लेना पार्टी के सिद्धांतों से समझौता है।

बिन्नी ने कहा कि केजरीवाल तानाशाह बन चुके हैं। दिल्ली के लोगों को मूर्ख बनाना छोडि़ए। पार्टी में सभी फैसले बंद कमरे में चार- पांच लोगों द्वारा लिए जाते हैं। विधायक ने कहा कि सत्ता में आने के बाद पार्टी अपनी विचारधारा भूल चुकी है और एक अवसरवादी संगठन बन गई है।

बिन्नी ने कहा कि वे इस्तेमाल करो और फैंको की नीति अपना रहे हैं। पहले, उन्होंने अन्ना हजारे, किरण बेदी का इस्तेमाल किया और अब भी पार्टी में बहुत से लोगों का इस्तेमाल किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पार्टी ने चुनाव अभियान के दौरान हर घर को 700 लीटर पानी नि:शुल्क उपलब्ध कराने का वायदा किया था, लेकिन सरकार ने बहुत चालाकी से घोषणा की कि इस सीमा से परे जाने पर पूरे पानी का बिल देना होगा।

बिजली के मुद्दे पर बिन्नी ने कहा कि सरकार ने दिल्ली के लोगों को धोखा दिया है केजरीवाल ने बिजली के बिल आधे करने का वायदा किया था। पर सरकार ने कहा कि उन्हीं उपभोक्ताओं को सब्सिडी दी जाएगी जिनकी खपत महीने में 400 यूनिट से ज्यादा नहीं होगी। यह पूरी तरह अस्वीकार्य है। पार्टी ने दिल्ली के लोगों को ठगा है।

विधायक ने कहा कि चुनाव अभियान के दौरान लोगों से किए गए वायदों को यदि 27 जनवरी तक पूरा नहीं किया जाता है तो वह भूख हड़ताल करेंगे। विधायक ने दिल्ली सरकार के मंत्रियों पर भी यह कहकर हमला किया कि उन्होंने कहा था कि वे लालबत्ती वाली गाड़ी नहीं लेंगे, लेकिन सबने बड़ी कारें ली हैं और उन पर वीआईपी नंबर लगाया है।

राजधानी में डेनमार्क की महिला के साथ हुए कथित सामूहिक बलात्कार का जिक्र करते हुए बिन्नी ने कहा कि यदि दूसरी पार्टी सत्ता में होती तो उस सरकार को निशाना बनाते और जगह- जगह प्रदर्शन करते। बिन्नी ने पूछा, उन्होंने दिल्ली में महिलाओं की रक्षा के लिए क्या कदम उठाए हैं?
  
बिन्नी ने यह भी कहा कि पार्टी सार्वजनिक रूप से घोषणा कर रखी थी कि हम न तो किसी राजनीतिक दल का समर्थन लेंगे और न ही देंगे। तब ऐसा क्या हुआ कि पार्टी को फैसला बदलना पड़ा। मुद्दे पर बंद दरवाजे के पीछे चर्चा चल रही थी।
  
विधायक ने आरोप लगाया कि केजरीवाल की कांग्रेस सांसद संदीप दीक्षित से घनिष्ठ मित्रता है और सरकार के कई फैसले कांग्रेस नेताओं से   विधायक की निन्दा को बकवास करार देते हुए मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कल कहा था कि बिन्नी मंत्री पद पाने के लिए उनके पास आए थे और बाद में उन्होंने लोकसभा चुनाव लडऩे की इच्छा व्यक्त की।

बिन्नी ने कहा कि मैं इस पार्टी का ईमानदार सिपाही हूं। मैं पार्टी नहीं छोड़ूंगा। उन्होंने कहा कि पार्टी ने कई मुद्दों पर दिल्ली के लोगों को गुमराह किया है। पार्टी द्वारा किए गए वायदों और सरकार द्वारा की जा रही चीजों में काफी अंतर है। बिन्नी ने इस बात के लिए भी आप की निन्दा की कि वह वायदे के बावजूद 14 दिन के भीतर जन लोकपाल विधेयक लेकर नहीं आई। उन्होने कहा कि आप 28 दिसंबर को सत्ता में आई थी। इसे 19 दिन हो चुके हैं।

बिन्नी ने यह कहकर केजरीवाल पर भी निशाना साधा कि लोगों की आलोचना के चलते मुख्यमंत्री को विवशता में आलीशान फ्लैट छोडऩा पड़ा। बागी तेवर अख्तियार करने वाले विधायक ने कहा कि यदि लोगों की तरफ से विरोध नहीं हुआ होता तो वह निश्चित तौर पर उस फ्लैट में चले गए होते।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You