एंथ्रेक्स का खतरा, सतर्क रहने के आदेश

  • एंथ्रेक्स का खतरा, सतर्क रहने के आदेश
You Are HereNational
Friday, January 17, 2014-1:27 PM

बिलासपुर: छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले में स्थित चिडिय़ाघर कानन पेण्डारी में संभावित एंथ्रेक्स के खतरे को देखते हुए आसपास के पांच किलोमीटर क्षेत्र के लोगों को एलर्ट रहने को कहा गया है। बिलासपुर के अधिकारियों ने बताया कि जिले के कलेक्टर ने ऐहतियात के तौर पर मुख्य चिकित्सा  एवं स्वास्थ्य अधिकारी तथा संयुक्त संचालक (पशु चिकित्सा सेवाएं) को शिविर लगाकर जांच व उपचार करने के निर्देश दिए है। अधिकारियों ने बताया कि बुधवार को कानन पेंडारी चिडिय़ाघर में 21 मादा चीतल अपने बाड़े में मृत पाई गई थीं।

विशेषज्ञों की टीम ने प्रारंभिक जांच व रासायनिक परिक्षण के बाद चीतलों की मौत के पीछे एंथ्रेक्स को जिम्मेदार ठहराया था। आधिकारिक सूचनाओं के अनुसार एंथ्रेक्स के संभावित खतरे को देखते हुए गुरुवार को स्वास्थ्य विभाग द्वारा कानन पेंडारी के समीपस्थ इलाकों, काठाकोनी ,बहतराई, सकरी एवं बिनौरी में स्वास्थ्य शिविर लगाकर लोगों की जांच की। इसी तरह पेण्डारी ,दवेना, सलमपुर, भरनी, परसदा एवं पाढ गांव में भी स्वास्थ्य शिविर लगाएं जाएंगे जिसके लिए चिकित्सक एवं स्वास्थ्य कर्मियों की ड्यूटी लगाई गई है।

कलेक्टर ठाकुर रामसिंह ने संयुक्त संचालक पशु चिकित्सा को क्षेत्र के पशुओं का सर्वे करने एवं आवश्यक उपचार व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए है। बुधवार को कानन पेण्डारी में चीतलों की मौत के संबंध में कामधेनु विश्वविद्यालय अंजोरा के चिकित्सकों की टीम ने जांच की और जानलेवा बीमारी एंथ्रेक्स के विषाणुओं को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया था। वन विभाग ने विस्तृत परीक्षण के लिए सेंपल इंण्डियन वेटनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट को भेजा है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You