आदेश के बाद भी सफाई व्यवस्था चरमराई

  • आदेश के बाद भी सफाई व्यवस्था चरमराई
You Are HereNational
Friday, January 17, 2014-4:52 PM

 नई दिल्ली : पूर्वी दिल्ली नगर निगम (ई.डी.एम.सी.) में कूड़ा उठाने वाले ट्राली-ट्रैक्ट्रर को कमर्शियल करने के आदेश के बाद सफाई व्यवस्था चरमरा गई है। ई.डी.एम.सी. ने एकीकृत नगर निगम के वर्ष 2012 में जारी सकुर्लर को लागू कर दिया है।

निगम के इस सकुर्लर के बाद पूर्वी दिल्ली नगर निगम से कूड़ा उठाने वाले सभी ट्राली-ट्रैक्टरों को हटा दिया गया। जिसके बाद पूर्वी दिल्ली नगर निगम की सफाई व्यवस्था चरमरा गई है। पूर्वी दिल्ली नगर निगम के इस आदेश को लेकर स्थायी समिति की बैठक में सत्तापक्ष ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं। सत्तापक्ष के सदस्य चौधरी महक सिंह ने मामला उठाते हुए कहा कि निगम ट्राली-ट्रैक्टर को मोटर वीकल एक्ट के तहत रजिस्ट्रर्ड करवाना चाहती है।

टै्रक्टर के रजिस्टर्ड होने तक निगम को कूड़ा उठाने वाले टै्रक्टरों को हटाना नहीं चाहिए। दूसरा यह कि एकीकृत नगर निगम के जारी सकुर्लर पर अब तक निगम क्यों सोती रही। ट्रैक्टरों के रजिस्टर्ड होने ना होने से निगम को कोई फायदा या नुक्सान नहीं होगा। उन्होंने कहा कि निगम के इस आदेश से किसी को कोई एतराज नहीं है बशर्तें की रजिस्टर्ड ट्राली-टै्रक्टर आने तक कूड़ा उठा रहे टै्रक्टर को ना हटाया जाए। जैसे-जैसे टै्रक्टर की आपूर्ति होती रहे वैसे वैसे निगम एक-एक कर इन ट्राली-टै्रक्टर को हटाती रहे।

स्थायी समिति में मामला उठने के बाद निगमायुक्त एस. कुमार स्वामी ने विभाग को आदेश दिए है कि मोटर वीकल एक्ट के तहत रजिस्टर्ड ट्रैक्टर-ट्राली को लेकर कूड़ा उठाने में लगाया जाए। बताते चलें कि पूर्वी दिल्ली नगर निगम के दोनों जोनों में करीब 50 से अधिक ट्रैक्टर ट्राली के माध्यम से कूड़ा उठाया जा रहा था। निगम के इस आदेश के बाद पूरे इलाके की सफाई व्यवस्था चरमरा गई है। अब देखना यह है कि आखिर कब तक रजिस्टर्ड ट्राली-ट्रैक्टर निगम को मिल पाते हैं। 

क्या था दिल्ली नगर निगम का सर्कुलर : एकीकृत दिल्ली नगर निगम ने 16 जनवरी 2012 को एक सकुर्लर जारी कर निगम में कूड़ा उठा रहे सभी ट्राली-टै्रक्टर का रजिस्टर्ड होना अनिवार्य कर दिया था। निगम के इस सर्कुलर पर पूर्वी दिल्ली नगर निगम ने अमल करना शुरू कर दिया है। शेष अन्य दो निगमों में फिलहाल इस सर्कुलर पर अमल नहीं किया गया है। यही वजह अब निगम की सफाई व्यवस्था पर भारी पड़ रही है। 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You