कानून सम्मत नहीं थी विदेशी महिलाओं की गिरफ्तारी

  • कानून सम्मत नहीं थी विदेशी महिलाओं की गिरफ्तारी
You Are HereNcr
Saturday, January 18, 2014-12:13 PM

नई दिल्ली (कुमार गजेन्द्र): दिल्ली पुलिस और दिल्ली सरकार के 2 मंत्री सोमनाथ भारती व राखी बिड़ला का विवाद लगातार बढ़ता जा रहा है। कानून व्यवस्था में नेताओं की बेवजह दखलअंदाजी पुलिस अधिकारियों के गले नहीं उतर रही है। आला अधिकारियों का कहना है कि किसी के कहने पर महिलाओं खासतौर से विदेशी महिलाओं को गिरफ्तार नहीं किया जा सकता।

विदेशियों के लिए बाकायदा गाइड लाइन हैं, जिनका हर हाल में अनुपालन करना होता है। दिल्ली पुलिस के एक आलाअधिकारी के मुताबिक सूचना मिलने के बाद पी.सी.आर. वैन और स्थानीय एस.एच.ओ. व ए.सी.पी. मौके पर पहुंच गए थे। उन्होंने मामले को हैंडल करना शुरू कर दिया था, लेकिन मंत्री जी चाहते थे कि उन्हें मौके पर ही गिरफ्तार कर लिया जाए, जो पुलिस के कार्य क्षेत्र से बाहर है।
अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि माननीय न्यायालय ने महिलाओं की गिरफ्तारी और उन्हें थाने बुलाने तक के लिए गाइड लाइन जारी कर रखी है।

पुलिस तब तक किसी महिला को गिरफ्तार या पकड़ कर थाने नहीं ला सकती, जब तक  किसी अपराध में संबंधित महिला के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी न हो रखा हो या फिर उसे किसी मामले में रंगे-हाथ गिरफ्तार न किया गया हो। इसके अलावा पुलिस को यह भी देखना होता है कि संबंधित महिला के रात में गायब होने की आशंका न हो। गिरफ्तारी अगर बेहद जरूरी है तो पुलिस को इसके लिए न्यायालय से गिरफ्तारी की इजाजत लेनी होती है।

यही कारण है कि जानकारी को पुख्ता करने और न्यायालय में आरोपी प्रकरण को साबित करने के लिए के लिए ड्रग्स या सैक्स रैकेट के मामलों में पुलिस नकली ग्राहक भेजकर पहले इसकी पुष्टि कर मामले को कानूनी जामा पहनाती है लेकिन इस मामले में मंत्री विदेशी महिलाओं को तुरन्त गिरफ्तार करने की मांग कर रहे थे, जो कानून सम्मत नहीं थी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You