‘बिहार में आप का कोई प्रभाव नहीं, लोग मोदी को देंगे वोट’

  • ‘बिहार में आप का कोई प्रभाव नहीं, लोग मोदी को देंगे वोट’
You Are HereNational
Sunday, January 19, 2014-11:54 AM

 नई दिल्ली: बिहार में आम आदमी पार्टी (आप) का कोई प्रभाव नहीं होने का दावा करते हुए राज्य के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि लोकसभा चुनाव में प्रदेश में जातपात और धर्म से उपर उठकर राजद, जदयू, लोजपा के समर्थक भी नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए भाजपा का समर्थन करने का मन बना चुके हैं।  सुशील मोदी ने ‘भाषा’ से बातचीत में कहा, ‘‘बिहार में नरेंद्र मोदी के पक्ष में लहर है। लोग मोदी से परिवर्तन और बदलाव की उम्मीद लगाये हुए हैं। राज्य में मोदी के पक्ष में माहौल है।’’ उन्होंने दावा किया कि इस बार लोग जातपात और धर्म से उपर उठकर भाजपा को वोट देने का मन बना चुके हैं। पूर्व उपमुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘नीतीश, लालू और पासवान में से कोई भी प्रधानमंत्री बनने नहीं जा रहा हैै। ऐसे में राजद, जदयू, लोजपा के समर्थक भी नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए भाजपा का समर्थन करने का मन बना चुके हैं।’’

 उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने जिस तरीके से गठबंधन (भाजपा से) तोड़ा, उसे लेकर लोगों में काफी गुस्सा है। बिहार में आम आदमी पार्टी (आप) के प्रभाव के बारे में पूछे जाने पर पूर्व उप मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘आप का बिहार को छोडि़ए दिल्ली के अलावा देश में और कहीं असर नहीं है। दिल्ली में भी अन्ना आंदोलन के कारण इसका असर दिखा और विधानसभा चुनाव में सीटें जीतीं।’’  उन्होंने कहा कि स्थानीय स्तर पर नेतृत्व और किसी ठोस नीति के बिना कोई भी पार्टी जनता का समर्थन हासिल नहीं कर सकती और बिहार के लिए आप का ना कोई नेतृत्व है ना ठोस नीति। जदयू और राजद के कांग्रेस से गठजोड़ करने के प्रयास संबंधी खबरों के बारे में पूछे जाने पर सुशील मोदी ने कहा कि लोग कांग्रेस और जदयू दोनों से नाराज है। राज्य में भाजपा का मुकाबला राजद से है और ‘हम सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरेंगे। भाजपा प्रदेश में सबसे बड़ी धुरी होगी।’’ योगगुरू रामदेव एवं भाजपा के पूर्व अध्यक्ष नितिन गडकरी के आयकर, बिक्रीकर समेत अन्य करों के स्थान पर ‘लेनदेन कर’ लाने के सुझाव पर भाजपा के रूख के बारे में पूछे जाने पर बिहार के पूर्व वित्त मंत्री ने कहा, ‘‘किसी ने कोई प्रस्ताव दिया और पार्टी ने इस पर विचार करने की बात कही है। मेरे विचार से भारत के परिप्रेक्ष्य में यह व्यवहारिक नहीं है।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You