फाइलों में दफन हुआ द्वारका आई.एस.बी.टी.

  • फाइलों में दफन हुआ द्वारका आई.एस.बी.टी.
You Are HereNational
Sunday, January 19, 2014-3:52 PM

नई दिल्ली  (राजेश रंजन सिंह): दिल्ली में बाहरी राज्यों से आने वाले सार्वजनिक बसों के कारण यातायात पर पडऩे वाले दबाव को कम करने और पश्चिमी दिल्ली में विशेषकर द्वारका उपनगरी को उच्च कोटि की परिवहन सुविधा के लिए दिल्ली परिवहन निगम ने उपनगरी के सैक्टर 22 में अंतर्राज्यीय बस टर्मीनल  (आई.एस.बी.टी.) के निर्माण की योजना बनाई थी। लेकिन यह योजना सपना बनकर ही रह गया है। 

 
द्वारका आई.एस.बी.टी. की योजना: द्वारका में आई.एस.बी.टी. के निर्माण की योजना साल 2008 में संबंधित विभाग द्वारा बनाई गई थी। योजना को पूरा करने के लिए दिल्ली परिवहन निगम को दिल्ली विकास प्राधिकरण (डी.डी.ए.) ने द्वारका के सैक्टर-22 में लगभग 11 हेक्टेयर की जमीन का आवंटन किया गया था।
 
पूरे परियोजना को पूरा करने की जिम्मेदारी दिल्ली इंटिग्रेटेड मल्टी मॉडल ट्रांजिट सिस्टम लिमिटेड (डी.आई.एम.टी.एस.) को दे दी गई थी।  उल्लेखनीय है कि कश्मीरी गेट, आनंद विहार, सराय काले खां और नरेला (प्रस्तावित) के बाद द्वारका आई.एस.बी.टी. दिल्ली का सबसे बड़ा और आधुनिक अंतर्राज्यीय बस टर्मीनल बनना था। इसके अलावा यात्री सुविधाओं के मद्देनजर यहां पर सॉफ्ट-ड्रिंक और स्नैक्स स्टॉल, होटल, पार्किंग आदि की व्यवस्थाएं भी परियोजना में शामिल की गई थी। फिलहाल मामला पिछले पांच सालों से लटका हुआ है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You