सिक्कों पर वैष्णो देवी, विरोध में उठे स्वर

  • सिक्कों पर वैष्णो देवी, विरोध में उठे स्वर
You Are HereNational
Sunday, January 19, 2014-7:19 PM

लखनऊ: भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने वैष्णो देवी की छविवाले 5 व 10 रुपये के सिक्के जारी किए हैं। सोशलिस्ट फ्रंट ऑफ इंडिया और स्मार्ट पार्टी ने इस पर एतराज जताया है। इन पार्टियों का कहना है कि इन सिक्कों से हिंदू और मुस्लिम दोनों की धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं।

 
विरोध के पीछे इन पार्टियों का तर्क है कि इन सिक्कों का अपवित्र व्यक्तियों, मांस-मदिरा का सेवन करने वालों के हाथों में पहुंचना स्वाभाविक है। माता वैष्णो देवी की छविवाले सिक्के  नाली, कीचड़ और अन्य अपवित्र स्थानों पर भी गिर सकते हैं। 
 
दोनों पार्टियों की संयुक्त बैठक में मो. आफाक ने कहा, ‘‘हम भारत सरकार के इस कृत्य की निंदा करते हैं और मांग करते हैं कि ऐसे सिक्कों को देश की भलाई के लिए बंद कर देना चाहिए।’’
 
मुहम्मद आफाक ने कांग्रेस पर प्रहार करते हुए कहा, ‘‘कांग्रेस का वजूद खत्म होने के कगार पर है, इसलिए कांग्रेसी बौखलाहट में उलूल- जुलूल हरकतें और बयानबाजी करने लगे हैं। अभी पिछले दिनों विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद ने आम आदमी पार्टी से जुडऩे वालों को बदबूदार और घटिया कहा था।’’ 
 
उन्होंने कहा, ‘‘मैं सलमान खुर्शीद से यह पूछना चाहता हूं कि जिन लोगों ने एक विदेशी व्यक्ति सर ए.ओ. ह्यूम के द्वारा 1885 में स्थापित कांग्रेस को ज्वाइन किया वे बदबूदार, घिनौने हैं या अपने ही देश के लोगों द्वारा बनाई गई आम आदमी पार्टी ज्वाइन करने वाले बदबूदार, घटिया हैं?’’
 
वहीं, स्मार्ट पार्टी के महासचिव शहजादे मंसूर अहमद ने सिक्कों पर वैष्णो देवी के चित्र को भारत सरकार द्वारा डिजाइन करवाए जाने को धर्मनिर्पेक्षता पर चोट और केंद्रीय वित्तमंत्री पी. चिदंबरम को लोकतंत्र ध्वस्त करने वाला करार देते हुए कहा कि कांग्रेस हमेशा से सांप्रदायिकता को बढ़ावा देती आई है। उसने सांप्रदायिक संगठनों का पालन-पोषण किया है और भड़काऊ भाषण देने वालों को संरक्षण दिया है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You