सरकारी स्कूलों में भर्ती किए जाएंगे 181 उर्दू टीचर

  • सरकारी स्कूलों में भर्ती किए जाएंगे 181 उर्दू टीचर
You Are HereNational
Monday, January 20, 2014-5:28 PM

नई दिल्ली (वसीम सैफी): आजादी के बाद से देश में उर्दू के साथ सौतेला व्यवहार होता आया है। यही वजह है कि उर्दू की शिक्षा और इसकी पहचान सिमट कर रह गई है। राजधानी दिल्ली में भी उर्दू शिक्षा का स्तर काफी गिरा हुआ है। पहले जहां अधिकांश स्कूलों में पढ़ाई उर्दू माध्यम में होती थी, वहीं अब स्कूलों में उर्दू सब्जेक्ट तक के लिए उर्दू के अध्यापकों को ढूंढऩा पड़ता है।


शिक्षा विभाग के अधिकारियों की मानें तो सरकारी स्कूलों में उर्दू की स्थिति अब कुछ हद तक सुधरने वाली है। कोर्ट के एक आदेश के बाद दिल्ली सरकार के स्कूलों में 181 नए उर्दू अध्यापकों की भर्ती के लिए सर्कुलर निकाला गया। बता दें कि सर्व शिक्षा अभियान के तहत 181 उर्दू अध्यापकों की भर्ती के लिए 20 दिसंबर 2013 को  सर्कुलर निकाला गया। सभी अध्यापकों को कांट्रैक्ट  बेस पर रखा जाएगा।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You