‘पारिस्थितिकीय सपना’ देखने वाला एक भी नेता नहीं है: शेखर पाठक

  • ‘पारिस्थितिकीय सपना’ देखने वाला एक भी नेता नहीं है: शेखर पाठक
You Are HereNational
Monday, January 20, 2014-5:27 PM

जयपुर: प्रख्यात पर्यावरणविद शेखर पाठक ने आज कहा कि अभी के समय में  वैकल्पिक सपनों वाला कोई नेता नहीं है। उन्होंने पारिस्थितिक मुद्दों पर ज्यादा ध्यान न देने के लिए नेताओं की आलोचना भी की।

जयपुर में आयोजित वार्षिक साहित्योसव में एक सत्र को संबोधित करते हुए पाठक ने कहा, ‘‘चाहे ओबामा हों या मनमोहन सिंह या फिर नरेंद्र मोदी। उनमें से किसी का कोई वैकल्पिक सपना नहीं है । उन सभी ने प्राकृतिक संसाधनों को लूटने की नीति पर अपना पूरा ध्यान केंद्रित कर रखा है ।’’ उन्होंने कहा, ‘‘चुनावों से पहले दो-तिहाई राजनीतिक दल एक ही भाषा बोलते रहे हैं जिससे यह छवि बनती है कि कोई कॉरपोरेट एजेंट बोल रहा है ।’’

पर्यावरण से जुड़े मौजूदा मुद्दों और खतरों को देखते हुए विकास को नए सिरे से परिभाषित करने की जरूरत पर जोर देते हुए पाठक ने कहा, ‘‘भूटान ने सकल राष्ट्रीय प्रसन्नता (जीएनएच) की एक अच्छी संकल्पना दी जो सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का विकल्प है और यह हमारे लिए बहुत सही समय है कि जीडीपी पर नए सिरे से विचार किया जाए ।’’

पाठक ने कहा, ‘‘हमें इस बात का विश्लेषण करने की जरूरत है कि जीडीपी के तौर-तरीकों से कितना फायदा मिला है और क्या बदलाव किए जाने की जरूरत है ।’’ पाठक पर्यावरण वैज्ञानिक सुमन सहाय के साथ पाकिस्तान के पर्यावरण कार्यकर्ता अहमद रफे आलम से एक सत्र में जलवायु परिवर्तन जैसे मुद्दों पर चर्चा कर रहे थे ।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You