गुजरात में जो कुछ हुआ था, उसे भुलाया नहीं जा सकताः नीतीश

  • गुजरात में जो कुछ हुआ था, उसे भुलाया नहीं जा सकताः नीतीश
You Are HereNational
Monday, January 20, 2014-9:22 PM

पटना: भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी के भारत को लेकर इंद्रधनुषी एजेंडे से असहमत बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज कहा कि गुजरात में जो कुछ हुआ था उसे भुलाया नहीं जा सकता है और इसकी कोई माफी कभी नहीं मिल सकती है। पटना के एक अणे मार्ग स्थित मुख्यमंत्री आवास पर आज जनता के दरबार के बाद पत्रकारों से बातचीत के दौरान सिने स्टार सलमान खान के कथन के बारे में पूछे जाने पर नीतीश ने वर्ष 2002 में गुजरात में हुए दंगे की ओर इशारा करते हुए कहा कि वहां जो कुछ हुआ था उसे भुलाया नहीं जा सकता है और इसकी कोई माफी कभी नहीं मिल सकती है।

नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने पर देश के चारों कोने को जोडने के लिए बुलेट ट्रेन चतुर्भुज योजना दिए जाने के वायदे के बारे पूछे जाने पर नीतीश ने कहा कि आज से नहीं जब इंदिरा गांधी प्रधानमंत्री थी। उस समय से ही हाई स्पीड कारिडोर की बात चल रही है इसके बारे में चर्चा हो रही है, पर वह व्यवहारिक नहीं होने के कारण मूर्त रुप नहीं ले सका है। उन्होंने कहा कि उनके रेल मंत्री बनने के पूर्व भी रेल मंत्रालय ने हाई स्पीड कारिडार परियोजना को महंगा बताया था और उनके कार्यकाल के दौरान भी उस पर बातें होती रहती थी, पर कोई निर्णय नहीं लिया जा सका था उनके बाद भी इस पर चर्चाएं हुई पर कार्यरूप में नहीं उतरा जा सका।

नीतीश ने कहा कि जब वे रेल मंत्री थे उस दौरान मुंबई और अहमदाबाद के बीच हाई स्पीड कारिडोर बनाये जाने पर चर्चा हुई थी वह भी अधिक धनराशि की आवश्यकता के कारण मूर्त रुप नहीं ले सकी, जिसके बाद ट्रेन की गति सीमा को 180 किलोमीटर लाने पर विचार हुआ था। उन्होंने कहा कि जब वे रेल मंत्री थे तो यूरोप में हाई स्पीड कारिडोर का निरीक्षण किया था और हाई स्पीड कारिडोर की योजना बिल्कुल अलग योजना होगी।

नीतीश ने अपने रेल मंत्रित्व काल में पटना और हावडा के बीच शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन चलाई थी। उससे अधिक यात्री के सफर नहीं करने के कारण राजस्व की हानि हुई और उसे बंद करना पडा था जिसके बाद बिना एसी कोच जोडकर जनशताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन चलायी तो उसमें अधिक लोग सफर कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हाई स्पीड कारिडोर योजना पर काम करने के पूर्व यह भी सोचना होगा कि उससे कितने लोग यात्रा करेंगे ताकि रेलवे को राजस्व की हानि न हो। नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने पर बुलेट ट्रेन चतुर्भुज योजना दिए जाने के वायदे के बारे में नीतीश ने अभी मूल प्रश्न यह है कि वे सरकार बना पायेंगे या नहीं। चुनाव के पहले बहुत सारी बातें कही जाती रही है।

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर कोई बात नहीं हुई
पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अगले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर अपनी पार्टी जदयू के लाइन में नही होने का दावा करते हुए आज लोजपा सुप्रीमो रामविलास पासवान को अच्छा आदमी बताया। पटना के एक अणे मार्ग स्थित मुख्यमंत्री आवास पर आज आयोजित जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम के बाद पत्रकारों से बातचीत के दौरान अगले लोकसभा चुनाव में गठबंधन को लेकर पूछे गए एक प्रश्न पर नीतीश ने कहा कि आज की तारीख में उनके पार्टी जदयू का किसी भी दल के साथ समझौता नहीं हुआ है तथा कांग्रेस के साथ इसको लेकर कभी भी किसी स्तर पर उनके पार्टी के किसी नेता ने कोई बात नहीं की है।

उन्होंने कहा कि अखबारों में कांग्रेस के अगले लोकसभा चुनाव में जदयू या राजद लालू प्रसाद की पार्टी के साथ समझौते को लेकर खबरें आए दिन उन्हें पढने को मिलती है उसमें कोई दम नहीं है। नीतीश ने कहा कि झारखंड में झारखंड विकास मोर्चा के साथ काम करने की सहमति बनी है और सीटों के तालमेल को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि जब उसको लेकर चर्चा होगी और कोई स्वरुप सामने आ जाएगा तो उसको सार्वजनिक किया जाएगा।

नीतीश ने कहा कि जहां तक बिहार का प्रश्न है तो वर्तमान में अगले लोकसभा चुनाव को लेकर किसी भी दल के साथ जदयू का कोई समझौता नहीं हुआ है। जदयू ने पिछला लोकसभा चुनाव भाजपा के साथ मिलकर लडा था पर नरेंद्र मोदी के धर्मनिरपेक्ष छवि पर प्रश्न चिन्ह लगाते हुए उन्हें प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने का विरोध करने वाली जदयू ने उन्हें चुाव अभियान समिति का प्रमुख बनाए जाने पर पिछले वर्ष 16 जून को भाजपा से नाता तोड़ लिया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You