मैं CM हूं, शिंदे नहीं, धरने की जगह खुद तय करूंगा: केजरीवाल

  • मैं CM हूं, शिंदे नहीं, धरने की जगह खुद तय करूंगा: केजरीवाल
You Are HereNational
Tuesday, January 21, 2014-2:05 PM

नई दिल्ली: केन्द्र के साथ अभूतपूर्व टकराव के बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल खुद को ‘अराजकतावादी’ बताते हुए दोषी पुलिस कर्मियों को निलंबित करने की मांग पर आज रेल भवन के सामने धरने पर बैठ पूरी रात वही गुजारी। केजरीवाल रात भर सड़क पर सोए। सुबह उठ कर मीडिय़ा से बातचीत करते हुए उन्होने कहा कि अगर मागें नहीं मानी गई तो लाखो लोग धरने पर जुटेंगे। ओर कहा कि अगर मागें नही मागी गई तो ऐसे ही कई राते सड़क पर गुजरेगी। उन्होंने ‘ईमानदार पुलिस कर्मियों’ से छुट्टी लेकर धरने में शामिल होने का आह्वान किया। उन्होंने लोगों से कहा कि वे भी आगे आएं। धरने के बीच ‘आप’ वर्करों का पुलिस के साथ टकराव भी हुआ। पुलिस ने दिल्ली के परिवहन मंत्री सौरभ भारद्वाज को हुल्लड़बाजी करने पर हिरासत में ले लिया और बाद में छोड़ दिया।

उच्च सुरक्षा वाले क्षेत्र में निषेधाज्ञा का उल्लंघन करते हुए अपने 6 मंत्रियों के साथ रेल भवन के सामने केजरीवाल ने धरने पर बैठने की घोषणा की। उन्होंने दक्षिणी दिल्ली के एक कथित मादक पदार्थ और वेश्यावृत्ति गिरोह पर छापा मारने से इंकार करने वाले दोषी पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर पैदा वर्तमान स्थिति के लिए केन्द्र पर आरोप लगाया। धरना स्थल पर विधायकों और समर्थकों को सम्बोधित करते हुए केजरीवाल ने कहा कि ‘कुछ लोग मुझे अराजकतावादी कह रहे हैं। हां, मैं अराजकतावादी हूं, मैं अव्यवस्था फैला रहा हूं। मैं गृह मंत्री शिंदे के लिए अराजकता पैदा करूंगा जो दिल्ली सरकार के मंत्री का कहना न मानने वाले पुलिस अधिकारियों को निलंबित नहीं कर रहे हैं।’ इसी बीच पुलिस ने केजरीवाल से अनुरोध किया कि वह अपने धरने को रेल भवन से हटाकर जंतर-मंतर पर स्थानांतरित कर लें, मगर उन्होंने ऐसा करने से इंकार कर दिया और कहा कि इसी स्थान से दिल्ली सरकार चलेगी। केजरीवाल ने घटनास्थल से ही फाइलों का निपटारा किया ताकि धरने के कारण प्रशासन का काम प्रभावित न हो।  केजरीवाल ने कहा कि वह 10 दिन के धरने की तैयारी के साथ आए हैं और जरूरी हुआ तो प्रदर्शन आगे भी जारी रहेगा। उन्होंने दावा किया कि यूगांडा उच्च आयोग के एक अधिकारी ने कानून मंत्री सोमनाथ भारती से मुलाकात की और उनकी कार्रवाई का समर्थन करते हुए कहा कि रोजगार के नाम पर देश की कई महिलाओं को भारत ने वेश्यावृत्ति के लिए मजबूर किया है। उन्होंने कहा कि दिल्ली की सड़कों पर महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं तो वह कैसे सचिवालय में बैठकर काम कर सकते हैं।

शिंदे को चैन से सोने नहीं देंगे: केजरीवाल
रात भर रेलभवन के पास सड़क पर सोए और सुबह उठकर केजरीवाल ने कहा कि अगर केंद्र सरकार नहीं मानी तो लाखों लोग जुटेंगे, तो ऐसे माहौल में कैसा गणतंत्र दिवस। केजरीवाल ने अपने बयान में कहा कि वह शिंदे को चैन से सोने नहीं देंगे। शिंदे और एलजी अपनी गुंडागर्दी बंद करें। केजरीवाल ने यह भी कहा कि शिंदे उन्हें ये न बतों कि वह कहां धरना दें। इतना ही नहीं दिल्ली सीएम ने कहा कि शिंदे ने ही मेट्रो स्टेशन बंद करवाए है। आपको बतां दे कि केजरीवाल पुलिसवालों के तबादले की मांग को लेकर रेलवे भवन के पास धरना दे रहे है।

मैं तय करूंगा कि मुझे कहां बैठना है: केजरीवाल

दिल्ली पुलिस के खिलाफ अपने विधायकों के साथ धरने पर बैठे दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने अपने तेवर और सख्त कर लिए हैं। पुलिस ने उनसे अपना धरना जंतर-मंतर पर शिफ्ट करने की अपील की, लेकिन केजरीवाल तैयार नहीं हैं। उन्होंने दो-टूक जवाब देते हुए कहा कि शिंदे तय नहीं करेंगे कि मैं कहां बैठूंगा। उन्होंने कहा, 'मैं दिल्ली का मुख्यमंत्री हूं। मैं तय करूंगा कि मुझे कहां बैठना है, शिंदे कौन होते हैं तय करने वाले, बल्कि मैं यह तय कर सकता हूं कि शिंदे कहां रहेंगे।'


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You