जायदाद को लेकर बाल ठाकरे के बेटों के बीच विवाद

  • जायदाद को लेकर बाल ठाकरे के बेटों के बीच विवाद
You Are HereNational
Tuesday, January 21, 2014-3:26 PM

मुंबई: शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे के बेटों उद्धव ठाकरे और जयदेव ठाकरे के बीच करोड़ों रपए की पैतृक संपत्ति को लेकर कानूनी लड़ाई छिड़ गई है। उद्धव ने अपने पिता की वसीयत को प्रोबेट कराने के लिए बंबई उच्च न्यायालय में याचिका दायर की थी। बाल ठाकरे ने उद्धव को पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किया था। बाल ठाकरे का निधन 17 नवंबर 2012 को हुआ था।

इस मामले से जुड़े एक वकील ने बताया कि उद्धव के भाई जयदेव ने इस वसीयत पर सवाल उठाए हैं जिसके कारण प्रोबेट याचिका को वसीयत याचिका में बदल दिया गया है। वसीयत के अनुसार जयदेव को जायदाद में कोई हिस्सा नहीं मिला है।  इस मामले पर न्यायमूर्ति रोशन दल्वी के समक्ष 27 जनवरी को अदालत में सुनवाई होने की संभावना है।

अदालत दोनों पक्षों से दस्तावेज़ों को स्वीकार या अस्वीकार करने के लिए पूछ सकती है।  प्रोबेट याचिका मृत व्यक्ति की वसीयत को अदालत द्वारा प्रमाणित कराने के लिए दायर की जाती है। बाल ठाकर ने जिस वसीयत पर हस्ताक्षर किए हैं, उसके अनुसार जायदाद में 14.85 करोड़ रपए की संपत्ति और बैंक में जमा राशि शामिल है। उद्धव की प्रोबेट याचिका के साथ वसीयत की प्रति लगाई गई है।

 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You