भारत और पाकिस्तानी गायकों ने एक मंच से छेड़े सूफी तराने

  • भारत और पाकिस्तानी गायकों ने एक मंच से छेड़े सूफी तराने
You Are HereNational
Tuesday, January 21, 2014-3:57 PM

नई दिल्ली: सरगम के लिए सीमाओं का बंधन न होने की बात सही साबित करते हुए हिन्दुस्तानी और पाकिस्तानी कलाकारों ने ‘खुसरो दरिया प्रेम का’ समारोह में सूफी संगीत की स्वर लहरियां बिखेरीं। सूफी संगीत के प्रति लोगों की दिलचस्पी बढ़ाने और भारतीय एवं पाकिस्तानी संगीत को एक मंच प्रदान करने के इरादे से इंटराइज इंटरटेनमेंट कंपनी ने राजधानी में 20 जनवरी की शाम सूफी संगीत समारोह आयोजित किया जिसमें हिन्दुस्तान और पाकिस्तान के अनेक कलाकार शामिल हुए।

‘खुसरो दरिया प्रेम का’ नामक शीर्षक से आयोजित यह समारोह हजरत अमीर खुसरो को समर्पित था। समारोह का उद्घाटन बॉलीवुड के वायलिन वादक दीपक पंडित ने किया। इंटराइज इंटरटेनमेंट के प्रबंध निदेशक ताहिर हयात ने कहा, ‘‘सूफी संगीत को लोगों के बीच पहुंचाने के उद्देश्य से हमने सूफी संगीत पर आधारित संगीत समारोह का आयोजन किया। इस समरोह में हिन्दुस्तान और पाकिस्तान के अनेक सूफी गायक शामिल हुए।’’

हयात ने कहा कि अमीर खुसरो की रबाइयां किसी मजहब अथवा मुल्क की मिल्कियत नहीं है और उनकी रचनाओं पर सभी का समान हक है। ‘‘सूफी संगीत आजकल के संगीत से भिन्न होता है और यह कान से नहीं दिल से सुनने वाला संगीत है।’’ इंटराइज इंटरटेमेंट के निदेशक मोहित स्लोक ने कहा, ‘‘सूफी संगीत परमात्मा से मिलने का सबसे आसान और प्रभावी तरीका है।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You