डॉक्यूमेन्ट्री के जरिए ओरवेल की जन्मस्थली को किया जाएगा संरक्षित

  • डॉक्यूमेन्ट्री के जरिए ओरवेल की जन्मस्थली को किया जाएगा संरक्षित
You Are HereNcr
Wednesday, January 22, 2014-2:26 PM

नई दिल्ली:  प्रख्यात ब्रिटिश लेखक जॉर्ज ओरवेल की जन्मस्थली, मोतिहारी (बिहार) को उन पर बनाए गए डॉक्यूमेन्ट्री के जरिए संरक्षित करने का आग्रह किया गया है। बिहार राज्य के तात्कालिन अविभाजित चंपारण जिले में झीलों के छोटे से शहर मोतिहारी में वर्ष 1903 में एरिक ऑर्थर ब्लेयर यानी जॉर्ज ओरवैल का जन्म हुआ था। 

21 जनवरी 1950 को लंदन में ‘एनीमल फार्म’  के प्रख्यात  लेखक ओरवेल का निधन हो गया था। कल उनकी 64 वीं पुण्यतिथि थी और उन्हें श्रृद्धांजलि  के तौर पर ‘ओरवैल, बट व्हाई’ नामक फिल्म मोतिहारी के कालेज में दिखाई गई। फिल्म के निर्देशक विश्वजीत मुखर्जी के अनुसार यह फिल्म जीवन वृतांत नहीं है, लेकिन यह बिहार के इस छोटे से शहर की विरासत को बचाने की एक कोशिश है। स्थानीय लोगों को ओरवेल  के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है। उन्हें यह बताने की जरूरत है कि उनकी यादों का संरक्षण क्यों जरूरी है।

ओरवैल ने वर्ष 1949 में महात्मा गांधी पर एक व्यापक निबंध ‘रिफ्लैक्शन्स ऑन गांधी’ लिखा था।  दिल्ली के युवा फिल्मकार ने ओरवेल पर डॉक्यूमेंटरी बनाने से पहले उनकी आत्मकथा पढ़ी और उनके उपन्यासों का भी गहरा अध्ययन किया। ‘वह भारतीय खान पान से लेकर यहां की हर बात के दीवाने थे। वह भारत के दीवाने थे। लेकिन उनके ही जन्मस्थान के लोग उनके बारे में ज्यादा नहीं जानते।’

 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You