जलाशय बना,लेकिन नहीं मिला पानी

  • जलाशय बना,लेकिन नहीं मिला पानी
You Are HereNational
Wednesday, January 22, 2014-5:05 PM

नई  दिल्ली (राजेश रंजन सिंह): द्वारका उप नगरी में पेयजल की किल्लत को सुलझाने के लिए सरकार द्वारा बनाई गई योजनाएं फिलहाल अधर में लटकी हैं। योजना के मुताबिक भूमिगत जलाशय पूरी तरह से साल 2011 में बनकर तैयार हो चुका है, लेकिन दिल्ली विकास प्राधिकरण (डी.डी.ए.) द्वारा निर्मित यह टैंक दिल्ली जल बोर्ड (डी.जे.बी.) से पानी न मिलने के चलते वर्षों से सूखा पड़ा है। फिलहाल, इसके शूरू होने की भी कोई संभावना दिखाई नहीं दे रही है।

द्वारका में लाखों की आबादी निवास करती है। ऐसे में, यहां पर पीने के पानी की समस्या बसावट के समय से ही जटिल है। इसी कमी की भरपाई के लिए एक वाटर कमांड टैंक के निर्माण की योजना तैयार की गई थी, जिसके निर्माण की जिम्मेदारी डी.डी.ए. को सौंपी गई। डी.डी.ए. ने वर्ष 2011 में ही द्वारका के सैक्टर-7 में लाखों की लागत से भूमिगत जलाशय के निर्माण कार्य को अंजाम दिया था।

इसकी क्षमता 50 एमजीडी है, लेकिन सालों बीतने के बाद भी विभागों में आपसी तालमेल न होने की वजह से इस भूमिगत जलाशय को शुरू नहीं किया जा सका है। सूत्रों की मानें तो हरियाणा के मुनक नहर से पानी न मिल पाने का कारण इसमें देरी हो रही है।फिलहाल, इस क्षेत्र में पानी की आपूर्ति नांगलोई स्थित पानी संयंत्र से की जाती है। इस स्थिति में लोगों को जरूरत के हिसाब से पानी नहीं मिल पाता। इससे पानी की समस्या बनी रहती है और उन्हें पेयजल खरीदना पड़ता है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You