पाक के साथ आतंकवाद और कारोबार साथ-साथ नहीं चल सकतेः भारत

  • पाक के साथ आतंकवाद और कारोबार साथ-साथ नहीं चल सकतेः भारत
You Are HereNational
Wednesday, January 22, 2014-9:51 PM

नई दिल्लीः भारत ने पाकिस्तान को आज साफ शब्दों में बताया कि उसके साथ आतंकवाद और व्यापार एक साथ नहीं चल सकते हैं। अगर वह भारत से व्यापारिक संबंधों को बढाना चाहता है तो उसे सीमा पर शांति बहाल करनी होगी। विदेश सचिव सुजाता सिंह ने अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक संबंध अनुसंधान परिषद के दूसरे वार्षिक सम्मेलन के समापन भाषण में कहा कि दोनों देशों के बीच गतिशील आर्थिक संबंधों के लिये आतंक औेर हिंसा से मुक्त वातावरण बहुत जरूरी है।

उन्होंने कहा कि दोनों देशों की अर्थ व्यवस्थाओं में संपर्क बढाने और साझा आर्थिक एजेंडा पर मिल कर काम करने के लिये ऐसा वातवारण बनाना एक चुनौती भरा काम है। श्रीमती सिंह ने कहा कि पाकिस्तान को भारतीय वस्तुओं का भेदभाव मुक्त बाजार में प्रवेश सुनिश्चित करना होगा जैसे भारत ने 1996 में पाकिस्तान के साथ किया था। विदेश सचिव पाकिस्तान भारत कारोबारी रिश्तों में हुई प्रगति के बारे में बताया कि 2012 में दोनों देशों ने न सिर्फ लक्ष्य तय किये बल्कि उन्हें हासिल करने का एक रोडमैप भी तैयार किया था।

अप्रैल 2012 में अटारी में एकीकृत चेक पोस्ट का भी उद्घाटन किया गया था। लेकिन पाकिस्तान ने कोई कदम नहीं उठाया। उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष अगस्त में गैस और बिजली के क्षेत्र में द्विपक्षीय व्यापार बढाने के बारे में प्रगति हुई। हाल ही में भारत और पाकिस्तान के वाणिज्य मंत्रियों की बैठक में द्विपक्षीय व्यापार संबंध सामान्य बनाने पर बल दिया गया है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You