जम्मू कश्मीर विधान परिषद के सामने पेश नहीं हुए वी के सिंह

  • जम्मू कश्मीर विधान परिषद के सामने पेश नहीं हुए वी के सिंह
You Are HereNational
Thursday, January 23, 2014-9:24 AM

जम्मू: पूर्व सैन्य प्रमुख वीके सिंह अपने खिलाफ लाए गए विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव के संबंध में जम्मू कश्मीर विधान परिषद के सामने दो हफ्तों में दूसरी बार पेश नहीं हुए। उधर, विधानसभा ने इस प्रस्ताव को खारिज करने का उनका आग्रह ठुकरा दिया। सत्तारूढ़ नेशनल काफ्रेंस ने मांग की कि जनरल सिंह के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी किया जाए। सत्तारूढ़ नेशनल कांफ्रेंस और कांग्रेस के सदस्यों के बीच समिति की वैधता के मुददे पर आमना सामना हुआ।

सिंह से समिति के सामने पेश होने के लिए कहा गया क्योंकि उन्होंने एक टीवी साक्षात्कार के दौरान आरोप लगाया था कि सेना जम्मू कश्मीर में नेताओं को धन देती है। विधानपरिषद की छह सदस्यीय समिति के पांच सदस्यों ने आज सुबह यहां मुलाकात की और इसके अध्यक्ष जुगल किशोर को पैंथर्स पार्टी के प्रमुख भीम सिंह ने बताया कि पूर्व सेना प्रमुख 26 जनवरी तक समिति के सामने खुद उपस्थित होंगे।

इस पर, नेशनल कांफ्रेंस के एमएलसी देवेंद्र राणा ने मांग की कि भीम सिंह को अपना बयान दर्ज कराना चाहिए कि पूर्व सैन्य प्रमुख समिति के सामने खुद उपस्थित होंगे। कांग्रेस के रवींद्र शर्मा ने समिति की वैधता पर सवाल उठाते हुए कहा कि कानून के अनुसार, समिति में पांच से अधिक सदस्य नहीं होने चाहिए लेकिन उनसे कहा गया कि समिति में एमएलसी की संख्या तय करना विधान परिषद के सभापति का विशेषाधिकार है। शर्मा से पूछा गया कि पिछले एक वर्ष से समिति का सदस्य होने के बावजूद वह आज समिति की वैधता पर सवाल क्यों उठा रहे हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You