20 वर्षीय आदिवासी युवती से 13 लोगों ने किया गैंगरेप

You Are HereNational
Thursday, January 23, 2014-3:42 PM

नई दिल्ली: बीरभूम जिले की एक अदालत ने 20 वर्षीय एक आदिवासी महिला से सामूहिक बलात्कार करने के आरोप में गिरफ्तार किए गए 13 व्यक्तियों को आज 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। बोलपुर के उप संभागीय न्यायिक मजिस्ट्रेट पीजूश घोष ने 13 आरोपियों की जमानत याचिकाएं खारिज कर दीं और उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया।इस महिला के साथ मंगलवार की रात को बीरभूम जिले के लाभपुर में 13 व्यक्तियों ने कथित तौर पर बलात्कार किया था।

पीड़ित के परिवार ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई जिसमें कहा गया कि समुदाय के नेताओं से मुलाकात के बाद यह घटना हुई। समुदाय के नेताओं ने महिला को समुदाय से बाहर के एक युवक के साथ संबंध रखने के कारण ‘‘दंड’’ देने का फैसला किया था। गिरफ्तार किए गए 13 स्थानीय लोगों पर सामूहिक बलात्कार करने और महिला को गंभीर रूप से घायल करने के आरोप लगाए गए हैं। उस युवक को भी गिरफ्तार कर लिया गया है जिसके साथ महिला के कथित संबंध बताए जाते हैं।यह स्पष्ट नहीं है कि युवक पर क्या आरोप लगाए गए हैं।


सामूहिक बलात्कार की घटना की निंदा करते हुए पश्चिम बंगाल के राज्यपाल एम के नारायणन ने आज कहा कि आरोपियों को गिरफ्तार कर शारीरिक दंड दिया जाना चाहिए।

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी ने पश्चिम बंगाल में एक आदिवासी महिला से सामूहिक बलात्कार को पूर्ण रूप से ‘‘अमानवीय और घृणित’’ करार देते हुए आज राज्य सरकार से आरोपियों को ‘‘कठोरतम सजा’’ दिलाने की अपील की। तिवारी ने यहां कहा, ‘‘पश्चिम बंगाल सरकार को तत्काल आरोपियों को गिरफ्तार करना चाहिए और उन्हें सख्त सजा सुनिश्चित होनी चाहिए।’’ बीरभूम के लाभपुर गांव में 20 वर्षीय एक महिला से 13 लोगों ने सामूहिक बलात्कार किया था क्योंकि वे कथित तौर पर उसके और एक अन्य समुदाय के व्यक्ति के बीच प्रसंग के खिलाफ थे। सभी 13 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You