भलस्वा लैंडफिल से जनरेट होगी गैस

  • भलस्वा लैंडफिल से जनरेट होगी गैस
You Are HereNcr
Friday, January 24, 2014-5:03 PM
 नई दिल्ली (कार्तिकेय हरबोला): भलस्वा लैंडफिल साइट के आसपास रहने वाले लोगों को जहरीली गैस से निजात दिलाने के लिए उत्तरी दिल्ली नगर निगम (एन.डी.एम.सी.) नया प्रयोग करने की तैयारी में है। योजना के तहत लैंडफिल साइट पर प्लांट लगाने पर विचार किया जा रहा है। यदि सब कुछ ठीक रहा, तो जल्द ही लैंडफिल में डाले गए कूड़े के पहाड़ से गैस बनाई जा सकेगी।
 
खास बात होगी कि इससे जहां आस-पास रहने वाले लोगों को राहत मिलेगी, वहीं निगम के राजस्व में भी इजाफा होगा। गौरतलब है कि इससे पहले पूर्वी दिल्ली नगर निगम (ई.डी.एम.सी.) के अतंर्गत आने वाले गाजीपुर लैंडफिल साइट पर इस तरह का प्रयोग किया जा चुका है।

डिप्रैशन में डाल सकती है जहरीली गैस
स्थानीय लोगों की मानें तो हवा के साथ आने वाली बदबू ने उनका जीना मुहाल किया हुआ है। पिछले दिनों कुछ लोगों को श्वास संबंधी विकार की शिकायत भी सामने आई थी। इस बाबत कुछ ठोस कदम उठाने के लिए कई बार प्रशासन से भी कहा गया है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। यदि यह योजना यहां सफल होती है, तो हम लोगों को काफी राहत मिलेगीवहीं,चिकित्सकों की मानें तो कचरे के पहाड़ से निकलने वाली मीथेन गैस अत्यधिक तेजी से इंसान को नुक्सान पहुंचाती है।
 
शरीर में प्रवेशकरते ही यह गैस हीमोग्लोबिन से ऑक्सीजन की मात्रा कम कर देती है। इससे इंसान बेहोश हो सकता है। इसके अलावा वह डिप्रेशन में भी जा सकता है। गैस के संपर्क में ज्यादा देर तक रहने की वजह से इंसान की मौत तक हो सकती है।
 
दूसरी जगह न मिलने से रोड़ा
 इस योजना को अमलीजामा पहनाने से पहले निगम फिलहाल दूसरी लैंडफिल साइट की तलाश में है। इसके लिए निगम ने जिन स्थानों को चिन्ह्ति किया है, उनमें से अधिकतर डी.डी.ए. के अधिकार क्षेत्र में हैं। नगर निगम की दिल्ली विकास प्राधिकरण के साथ (डी.डी.ए.) बातचीत भी जारी है। वर्तमान में भलस्वा लैंडफिल साइट की वर्षों पहले खत्म हो चुकी क्षमता के बाद भी निगम यहां कूड़ा डाल रहा है। कूड़े के निस्तारण के लिए दूसरी जगह मिलने के बाद ही योजना पर काम शुरू हो पाएगा। 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You