‘सुकरात नंगे पांव’ से प्रभावित हुए दर्शक

  • ‘सुकरात नंगे पांव’ से प्रभावित हुए दर्शक
You Are HereNational
Saturday, January 25, 2014-12:47 AM

नई दिल्ली : श्री राम सैंटर में शुक्रवार को प्रसिद्ध दार्शनिक सुकरात के जीवन पर ‘सुकरात नंगे पांव’  नाटक का मंचन किया गया। जिसका निर्देशन मशहूर निर्देशन पद्मश्री राज बिसारिया ने किया।

नाटक में उनके संघर्षों और जीवन के विभिन्न पड़ाव के बारे में दिखाया गया। ये नाटक उस काल का है जब सुकरात के दुश्मन और विरोधियों ने उन पर युवाओं को भ्रष्ट करने व राज्य के खिलाफ षड्यंत्र रचने के आरोप लगा रहे थे। इसके साथ नाटक में उनका पत्नि और बच्चों के साथ किस तरह के संबंध थे, उसे बखूबी ढंग से मंचित किया गया।

नाटक में दिखाया गया कि वो बहुत ही कोमल ह्रदय पति हैं। सुकरात को सच्चाई और सिद्धांतों के प्रति अपने जीवन से मोह भंग हो गया था। सुकरात का किरदार मशहूर रंगकर्मी सूर्य मोहन कुलश्रेष्ठ ने किया और नाटक में पोशेनियम के रोल में जुगल किशोर खूब जमे। उनकी पत्नि का अभिनय मृदुला भारद्वाज ने किया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You