'पार्टी से कहीं अधिक है मोदी की स्वीकार्यता'

  • 'पार्टी से कहीं अधिक है मोदी की स्वीकार्यता'
You Are HereNational
Saturday, January 25, 2014-10:25 AM

नर्इ दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता अरूण जेटली ने कहा है कि पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की प्रधानमंत्री के रूप में स्वीकार्यता पार्टी से कहीं अधिक है और वह ऐसे राज्यों में भी पार्टी के वोटों की संख्या बढा सकते हैं जहां उसका जनाधार नहीं है।

जेटली ने दो समाचार चैनलों द्वारा कल जारी किये गये सर्वेक्षणों पर केन्द्रित अपने लेख में लिखा है कि वैसे उनका सर्वेक्षणों में विश्वास नहीं है और खासकर जब ये चुनाव से तीन-चार महीने पहले किए जाए। उन्होंने कहा कि इतना कहा जा सकता है कि ये सर्वेक्षण लोगों के मौजूदा रूझान के बारे में जरूर बताते हैं।

उन्होंने कहा है कि इन सर्वेक्षणों में भाजपा को सबसे आगे बताते हुए कहा गया है कि आगामी आम चुनाव में  वह लोकसभा के अपने सर्वाधिक सीटों के आंकडे 183 से आगे निकल जाएगी।  पार्टी दक्षिण के राज्यों में मजबूती के साथ अपनी उपस्थिति दर्ज करा सकती है। उसके सहयोगी दलों शिव सेना और शिरोमणि अकाली दल की सीटें भी बढेंगी। चुनाव में कांग्रेस की सीटें कम होंगी और बडी बात नहीं होगी
कि वह दहाई के आंकडे तक ही सीमित रह जाए।  भाजपा नेता ने कहा है कि लगभग दस राजनीतिक दलों को 5 से 25 के बीच सीटें मिलेंगी और इनके एकजुट होने की संभावना नहीं है क्योंकि इनमें से कई परस्पर विरोधी है।

 उन्होंने लिखा है कि इन सर्वेक्षणों में सबसे महत्वपूर्ण बात यह उभर कर आई है कि प्रधानमंत्री के रूप में  मोदी की स्वीकार्यता पार्टी के हर राज्य में वोटों से 15 से 20 प्रतिशत बढी है। यह भी सामने आया है कि मोदी ऐसे राज्यों में भी पार्टी की नैया पार लगायेंगे जहां उसका गढ नहीं है। इसमें पार्टी को तमिलनाडु में 17 तथा ओडिशा में 25 प्रतिशत वोट मिलने का अनुमान व्यक्त किया गया है। उन्होंने कहा है कि इससे यह पता चलता है कि देश को एक मजबूत नेतृत्व की जरूरत है जो मोदी के नेतृत्व में भाजपा ही दे सकती है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You