'लोकतंत्र को सशक्त बनाने के लिए करें सोच समझकर मतदान'

  • 'लोकतंत्र को सशक्त बनाने के लिए करें सोच समझकर मतदान'
You Are HereNational
Saturday, January 25, 2014-5:47 PM

जयपुर: राजस्थान की राज्यपाल माग्रेट अल्वा ने कहा है कि लोकतंत्र को और सशक्त बनाने के लिए मतदाताओं को जाति, धर्म, भाषा और समुदाय से ऊपर उठकर एवं सोच समझकर अपने मत का उपयोग किया जाना चाहिए। अल्वा आज यहां निर्वाचन विभाग द्वारा आयोजित चतुर्थ राष्ट्रीय मतदाता दिवस 2014 समारोह को संबोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में सभी मतदाताओं को अपनी भागीदारी भी सुनिशिचत की जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि चुनाव लोकतंत्र का उत्सव होता है। जब इसमें सभी लोग उत्साह से भाग लेंगे. तभी जमीनी स्तर तक लोकतंत्र मजबूत होगा। राज्यपाल ने युवाओं का आह्वान किया कि उनका यह पहला कर्तव्य है कि वे 18 वर्ष की आयु पूर्ण होने पर मतदान के लिए अपना नाम मतदाता सूची में पंजीकृत कराए। 
 
राज्यपाल ने कहा कि मतदान के लिए युवा मतदाताओं का शत प्रतिशत पंजीकरण किया जाना जररी हैं। युवा मतदाताओं का 60 प्रतिशत ही रजिस्ट्रेशन होने पर चिन्ता व्यक्त करते हुए अल्वा ने कहा कि मतदान पंजीकरण के लिए चलाए जा रहे अभियान के तहत अन्य मतदाताओं के साथ युवाओं का शत प्रतिशत पंजीकरण कराए जाने के प्रयास किए जाने चाहिए। 

अल्वा ने राज्य में हाल ही में निष्पक्ष और शांतिपूर्ण सम्पन्न हुए विधानसभा चुनाव की सराहना करते हुए कहा कि 75 प्रतिशत से अधिक मतदान अपने आप में शानदार है। उन्होंने कहा कि महिलाओं ने भी इस बार अधिक मतदान करने की पहल की। जिससे महिलाओं के मतदान में उल्लेखनीय दस प्रतिशत बढ़ोतरी हुई है। उन्होंने लोकतांत्रिक परम्परा की मर्यादाओं को बनाये रखने  और निर्भीक होकर मतदान करने की शपथ भी दिलाई।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You