सरकार नहीं मानी तो यमुना खादर के किसान शरू करेंगे सत्याग्रह

  • सरकार नहीं मानी तो  यमुना खादर के किसान शरू करेंगे सत्याग्रह
You Are HereNational
Saturday, January 25, 2014-6:19 PM
नई दिल्ली, : यमुना खादर के किसानों ने अपनी समस्याओं को लेकर किसान महापंचायत का आयोजन किया। इस दौरान कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए। महापंचायत के मुख्य अतिथि जदयू किसान सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनवीर तेवतिया थे। किसान नेताओं ने कहा कि अगर सरकार ने उनकी मागें नहीं मानी तो 30 जनवरी से दिल्ली के रामलीला मैदान में किसान सत्याग्रह शुरू किया जाएगा।
 
 यमुना के किनारे बायोडायवर्सिटीपार्क का विरोध करते हुए किसान नेताओं ने कहा कि सरकार विकास का हवाला देकर खेतिहर मजदूरों और बागवानी करने वाले लाखों लोगों को उजाडऩे की साजिश कर रही है। मनवीर तेवतिया ने कहा कि यदि यमुना खादर में खेलगांव, अक्षरधाम और रिहायशी फ्लैटों का निर्माण किया जा सकता है तो सरकार किसानों को भी यहां मकान बनाने की अनुमति दे। 
 
यमुना खादर की चर्चा करते हुए किसान नेताओं ने कहा कि वर्ष 1949 में 99 साल के लिए किसानों को यमुना खादर की भूमि खेती के लिए आवंटित की गई थी, लेकिन दिल्ली विकास प्राधिकरण ने किसानों से लीज की राशि लेना बंद कर दिया। किसान लीज की राशि का भुगतान करने के लिए तैयार हैं। किसानों ने चेतावनी दी कि अगर प्राधिकरण लीज की शुरुआत फिर से नहीं करता तो किसान आंदोलन का सहारा लेंगे। कार्यक्रम के दौरान जदयू किसान सभा के राष्ट्रीय महासचिव पवन कुमार, ऋषिराज त्यागी, मिथिलेश प्रसाद, सुरेंद्र गुप्ता, सुधीर झा, नवीन झा और किसान सोसायटी के अन्य सदस्य मौजूद रहे। 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You