छोटे राज्य बनाने को लेकर बहस वाजिब : राष्ट्रपति

  • छोटे राज्य बनाने को लेकर बहस वाजिब : राष्ट्रपति
You Are HereNational
Saturday, January 25, 2014-11:11 PM

नयी दिल्ली : आंध्र प्रदेश से अलग तेलंगाना राज्य बनाने को लेकर चल रही चर्चाओं के बीच राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने आज कहा कि इस बात को लेकर आक्रोश है कि क्या हमें राज्य के सभी हिस्सों तक समतापूर्ण विकास पहुंचाने के लिए छोटे-छोटे राज्य बनाने चाहिए लेकिन यह बहस लोकतांत्रिक मानदंडों के भीतर होनी चाहिए।

 राष्ट्रपति ने 65वें गणतंत्र दिवस की पूर्वसंध्या पर राष्ट्र के नाम अपने संदेश में कहा, ‘‘एक लोकतांत्रिक देश सदैव खुद से तर्क-वितर्क करता है। यह स्वागत योग्य है क्योंकि हम विचार-विमर्श और सहमति से समस्याएं हल करते हैं, बल प्रयोग से नहीं।’’
 
उन्होंने कहा कि परंतु विचारों के ये स्वस्थ मतभेद हमारी शासन व्यवस्था के अंदर अस्वस्थ टकराव में नहीं बदलने चाहिए। मुखर्जी ने कहा, ‘‘इस बात पर आक्रोश है कि क्या हमें राज्य के सभी हिस्सों तक समतापूर्ण विकास पहुंचाने के लिए छोटे-छोटे राज्य बनाने चाहिए। बहस वाजिब है, परंतु इसे लोकतांत्रिक मानदंडों के अनुरूप होना चाहिए। फूट डालो और राज करो की राजनीति हमारे उपमहाद्वीप से भारी कीमत वसूल चुकी है। यदि हम एकजुट होकर कार्य नहीं करेंगे तो कुछ नहीं हो पाएगा।’’

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You