सर्दी के सितम में डीएमआरसी के फरमान से परेशान बेघर

  • सर्दी के सितम में डीएमआरसी के फरमान से परेशान बेघर
You Are HereNational
Sunday, January 26, 2014-6:08 PM

नई दिल्ली : दिल्ली में सर्दी के सितम में रैनबसेरा के माध्यम से किसी तरह बेघरों को छत नसीब हुआ है। रैनबसेरों को हटाए जाने के फरमान से  सर्दी में सैकड़ो बेघरों के लिए समस्या खड़ी हो गई है। दिल्ली मेट्रो रेल कार्पोरेशन (डीएमआरसी)ने शहरी आश्रय सुधार बोर्ड को यमुना पुश्ता पर चल रहे 7 रैन बसेरों को जल्द से जल्द बंद करने का फरमान जारी किया है। फरमान से चिंतित शहरी आश्रय सुधार बोर्ड के अधिकारियों ने डीएमआरसी से मानवीय आधार पर फैसला करने का अनुरोध किया है।

शहरी आश्रय सुधार बोर्ड के एक अधिकारी ने बताया कि डीएमआरसी ने निगम बोध घाट, यमुना पुश्ता पर चल रहे सात रैन बसेरों को बंद करने के लिए पत्र लिखा है। डीएमआरसी ने कहा है कि यह जमीन मेट्रो द्वारा जारी निर्माण कार्य की परिधि में आती है। मेट्रो का काम प्रभावित न हो इसके लिए रैन बसेरों को बंद करना जरूरी है। सूत्रों की मानें तो डीएमआरसी का पत्र मिलने के बाद शहरी आश्रय सुधार बोर्ड के अधिकारियों के होश उड़ गए हैं।

बेघरों के लिए रैन बसेरा बनाने में हो रही देरी की वजह से पहले से ही बोर्ड कटघरे में है। ऐसे में डीएमआरसी की चि_ी से बोर्ड के अधिकारी परेशान हैं। उन्हें डर है कि 500 से ज्यादा बेघरों के लिए दोबारा रैन बसेरे बनाने में समय लगेगा। इस बीच यदि कोई हादसा हुआ तो बोर्ड की कार्यप्रणाली भी सवालों के घेरे में आएगी।  यहां रैन बसेरे में आश्रय पाए बेघरों का कहना है कि आखिर इस ठंड में हम कहां जाएंगे? 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You