रालोद ने चुनावी सर्वेक्षणों को खारिज किया

  • रालोद ने चुनावी सर्वेक्षणों को खारिज किया
You Are HereNational
Monday, January 27, 2014-7:47 PM

नई दिल्ली : यूपीए के घटक राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) ने चुनावी सर्वेक्षणों को खारिज करते हुए  कहा है कि आगामी लोकसभा चुनाव में खंडित जनादेश की अधिक संभावना है और ऐसी स्थिति में अन्य दलों की भूमिका काफी अहम रहेगी। 

गौरतलब है कि हाल के दिनों में कुछ टेलीविजन चैनलों द्वारा कराए गए सर्वेक्षणों में भाजपा की अगुवाई वाले राजग को काफी आगे दिखाया गया है, वहीं कांग्रेस नीत संप्रग को काफी पीछे।रालोद प्रमुख और केेंद्रीय नागर विमानन मंत्री चौधरी अजित सिंह ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लडऩे पर जोर देते हुए कहा, ‘‘हम संप्रग का हिस्सा हैं और यह चुनाव इसके घटक के तौर पर ही लड़ेंगे। सीटों को लेकर अभी फैसला नहीं हुआ है, लेकिन जल्द इस बारे में कांग्रेस से बात करूंगा।’’

 सिंह ने उक्त सर्वेक्षणें को खारित कर दिया है। उन्होंने कहा कि चुनाव पूर्व सर्वेक्षण इस विविधता वाले देश में कैसे सही साबित हो सकते हैं। सर्वेक्षणों में जो तस्वीर दिखाई जा रही है, चुनाव में वो नहीं होगी। पूरी संभावना इस बात की है कि खंडित जनादेश होंगे और अन्य दल महत्वपूर्ण रहेंगे।

उन्होंने दिल्ली से बाहर आम आदमी पार्टी के असर को नकारते हुए कहा कि दिल्ली के बाहर इस पार्टी का प्रभाव नहीं दिखता है। मुजफ्फनगर दंगों को लेकर उन्होंने भाजपा और सपा पर निशाना साधते हुए कहा, कि यह सांप्रदायिक दंगा नहीं था, बल्कि राजनीतिक दंगा था। इसके लिए भाजपा और सपा जिम्मेदार हैं। हमारी कोशिश दोनों समुदायों के बीच फिर से पहले जैसा भाईचारा कायम करने की है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You