2013 की परीक्षा रद्द कर सकता है एस.एस.सी.

  • 2013 की परीक्षा रद्द कर सकता है एस.एस.सी.
You Are HereNational
Tuesday, January 28, 2014-12:19 AM

नई दिल्ली(सतेन्द्र त्रिपाठी): कर्मचारी चयन आयोग(एस.एस.सी.) ने वर्ष 2013 में आयोजित परीक्षा को रद्द करने का फैसला किया है। एस.एस.सी. ने डी.ओ.पी.टी. से सिफारिश की है कि पिछले साल हुई परीक्षा को रद्द किया जाए। इसके साथ ही एस.एस.सी. ने 2014 की परीक्षा को अधिसूचना लागू कर दी है।

 पिछले एक साल से नौकरी की आस लगाए एक लाख से ज्यादा युवाओं को इस फैसले से बेहद निराशा हुई है। इन युवाओं ने अब अपना हक पाने के लिए आंदोलन का सहारा लेने की योजना बनाई है। एस.एस.सी. की मनमानी के खिलाफ युवा भूख हड़ताल, आत्मदाह व खून से पत्र लिखने जैसे उग्र कदम उठा सकते हैं। पूरे देश से युवा मंगलवार को जंतर-मंतर पर एकत्र होकर इस आंदोलन में भाग लेंगे। 

नवोदय टाइम्स ने गत 8 जनवरी को भी युवाओं के इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाया था। इस परीक्षा से प्रभावित लोगों एस.सी.सी. सी.जी.एल.ई. प्रोटेस्ट 2013 के नाम से फेसबुक एक पेज भी बनाया है। इस ग्रुप में पूरे देश संैकड़ों युवा जुड़ चुके है। इस ग्रुप में शामिल मिहिका गुप्ता अरुण पराशर ने बताया कि एक लाख 31 हजार युवाओं ने वर्ष 2013 में एस.सी.सी. के पहले लेबल की परीक्षा पास कर ली थी। इनके लिए  सितम्बर में दूसरी परीक्षा आयोजित की गई लेकिन इस परीक्षा का परिणाम नहीं आया। 

एस.एस.सी. को जगाने के लिए युवाओं ने गत 8 जनवरी को भी आंदोलन किया लेकिन उसका कोई असर नहीं हुआ। मिहिका ने बताया कि एस.एस.सी. ने इस परीक्षा को रद्द करने के लिए डीओपीटी को सिफारिश कर दी है। इसके साथ ही नई परीक्षाओं के लिए नोटिफिकेशन भी कर दिया है। इस फैसले से एक लाख से ज्यादा युवाओं को तगड़ा झटका लगा है। हम लोगों ने डी.ओ.पी.टी. के संयुक्त सचिव से मिलकर अपना पक्ष रखा है और प्रधानमंत्री  को भी पत्र लिखा है। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You