अरविंद केजरीवाल और सोमनाथ भारती को हाईकोर्ट का नोटिस

You Are HereNational
Tuesday, January 28, 2014-4:55 PM

नई दिल्ली: दिल्ली उच्च न्यायालय ने दो भाजपा नेताओं की अलग अलग अपीलों पर आज मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और कानून मंत्री सोमनाथ भारती को नोटिस जारी किए। भाजपा नेताओं की अपीलों में इस आधार पर केजरीवाल और भारती का चुनाव अमान्य करने की मांग की गई है कि दोनों ने अपने अपने चुनाव खर्च की 14-14 लाख रूपये की सीमा पार की।

न्यायमूर्ति विपिन सांघी की पीठ ने केजरीवाल से दिल्ली की भाजपा इकाई के पूर्व अध्यक्ष विजेन्दर गुप्ता की चुनाव याचिका पर जवाब मांगा है। नई दिल्ली विधानसभा सीट से केजरीवाल के खिलाफ खड़े गुप्ता विधानसभा चुनाव हार गए थे। न्यायमूर्ति जी एस सिस्तानी की एक अन्य पीठ ने भाजपा नेता और दिल्ली की पूर्व महापौर आरती मेहरा की अपील पर कानून मंत्री को नोटिस जारी किया।

मेहरा ने आरोप लगाया है कि भारती ने जनप्रतिनिधित्व कानून के प्रावधानों का पालन नहीं किया और मालवीय नगर विधानसभा सीट पर चुनाव प्रचार के दौरान 14 लाख रूपये से अधिक रकम खर्च की। अदालतों ने चुनाव आयोग को नोटिस जारी नहीं किया लेकिन ‘आम आदमी पार्टी’ के नेताओं से चार सप्ताह के अंदर अपने अपने जवाब दाखिल करने को कहा है। अदालतों ने मामलों की सुनवाई 25 फरवरी को नियत की है।

भाजपा नेताओं की ओर से पेश सत्यपाल जैन और राजीव रंजन राय ने सुनवाई के दौरान जनप्रतिनिधित्व कानूनों के विभिन्न प्रावधानों का उल्लेख किया ताकि इस बात पर जोर दिया जा सके कि ‘आप’ नेताओं ने चुनाव प्रचार के दौरान किए गए खर्च का सही और अलग ब्यौरा नहीं दिया है।

याचिका में भाजपा नेताओं ने कहा कि केजरीवाल और भारती ने गलत तरीका अपनाया और चुनाव संबंधी नामांकन भरने के बाद 23 नवंबर 2013 को जंतर मंतर पर ‘‘जीत की गूंज, वोट फॉर चेंज’’ रॉक शो आयोजित कर चुनाव प्रचार के दौरान करीब 94.80 लाख रूपये खर्च किए। इस याचिका में कहा गया है ‘‘कन्सर्ट पर आम आदमी पार्टी द्वारा खर्च की गई रकम 94.80 लाख रूपये है जिसे प्रतिवादी (केजरीवाल) तथा आम आदमी पार्टी ने कम कर केवल 14.72 लाख रूपये बताया है।’’ ऐसे ही आरोप मेहरा ने भारती के खिलाफ लगाए हैं।

याचिकाओं में आरोप लगाया गया है ‘‘कन्सर्ट के जरिये केजरीवाल ने मतदाताओं को प्रभावित किया जिसका असर चुनाव के नतीजों पर पड़ा।’’ ‘आप’ के दोनों नेताओं पर भारतीय निर्वाचन आयोग द्वारा जारी आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के साथ साथ जन प्रतिनिधित्व कानून के प्रावधानों और स्वतंत्र तथा निष्पक्ष चुनाव के संविधान के सिद्धांतों के उल्लंघन का भी आरोप लगाया गया है।

याचिका में कहा गया है कि आयोजन में बॉलीवुड की कई प्रख्यात हस्तियों और गायकों ने प्रस्तुति दी और प्रत्येक की प्रस्तुति के लिए दर 3 लाख रूपये से लेकर 10 लाख रूपये थी जिसका कथित तौर पर केजरीवाल ने भुगतान किया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You