महिलाओं के स्वयंसहायता समूहों को बैंकों से जोडऩे की जरूरत: रमेश

  • महिलाओं के स्वयंसहायता समूहों को बैंकों से जोडऩे की जरूरत: रमेश
You Are HereNational
Tuesday, January 28, 2014-11:23 AM

मुंबई: केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश ने कहा कि राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत महिलाओं को अधिकार संपन्न बनाने के लिए महिलाओं के स्वयंसहायता समूहों (डब्ल्यूएसएचजी) को बैंकों से जोड़े जाने की जरूरत है। रमेश महाराष्ट्र राज्य ग्रामीण आजीविका फोरम कार्यक्रम में भाग लेने के लिए मुंबई में थे। इस कार्यक्रम का आयोजन राज्य सरकार ने किया था। उन्होंने कहा कि मिशन का उद्देश्य एसएचजी के गठन तक सीमित नहीं होना चाहिए।

 

उन्होंने कहा कि यह आवश्यक है कि इन समूहों को बैंकों से जोड़ा जाए ताकि निर्धन महिलाओं को आसानी से रिण मिल सके और वे अपना कारोबार शुरू कर सकें। मिशन के अनुसार सरकार की योजना महिलाओं के स्वयंसहायता समूहों की संख्या मौजूदा 25 लाख से बढ़ाकर 60 लाख करने की है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You