नर्इ प्रशासनिक इकाइयों पर उठा विरोध, उमर ने की अंबिका से मुलाकात

  • नर्इ प्रशासनिक इकाइयों पर उठा विरोध, उमर ने की अंबिका से मुलाकात
You Are HereNational
Tuesday, January 28, 2014-11:58 AM

नर्इ दिल्ली: जम्मू कश्मीर में 23 नर्इ प्रशासनिक इकाइयों की स्थापना के प्रस्ताव पर पैदा हुए राजनीतिक विवाद के बीच नेशनल कांफ्रेंस ने इसके समर्थन के अपने रूख से हटने से इंकार कर दिया है वहीं गठबंधन सहयोगी कांग्रेस और कुछ अन्य दल इसका विरोध कर रहे हैं। प्रदेश के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला का मानना है कि प्रस्तावित प्रशासनिक इकाइयां राज्य के समग्र विकास के लिए आवश्यक हैं और इस संबंध में वह केंद्र में कांग्रेस नेतृत्व से बातचीत कर रहे हैं।

उमर ने आज प्रदेश के लिए कांग्रेस महासचिव अंबिका सोनी से मुलाकात की। इस दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री गुलाम नबी आजाद भी मौजूद थे। बैठक के दौरान संभवत: उमर ने कांग्रेस द्वारा जतायी गयी चिंताओं पर जवाब दिया और स्पष्ट किया कि किसी क्षेत्र के साथ कोई भेदभाव नहीं है जैसा कुछ गठबंधन सहयोगी दावा कर रहे हैं।  बैठक में इस विवादित मुद्दे पर कोई समाधान नहीं निकल सका।
     
उमर ने पिछले हफ्ते इस मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी। उनकी बैठक के बाद राज्य के कांग्रेस नेताओं के साथ एक अन्य बैठक हुयी थी जिसमें गांधी ने राज्य नेताओं से नए सबडिविजन की स्थापना पर संभवत: विचार करने को कहा था। उमर ने मुश्ताक गनी समिति की रिपोर्ट पर विचार के लिए कैबिनेट उप..समिति (सीएससी) गठित करने की घोषणा की थी। समिति ने अपनी रिपोर्ट में नर्इ 23 प्रशासनिक इकाइयां या सबडिविजन बनाने की सिफारिश की है।

इसमें 10 जम्मू क्षेत्र के लिए, 12 कश्मीर घाटी के लिए और एक लद्दाख क्षेत्र के लिए होंगे। सीएससी के प्रमुख उपमुख्यमंत्री तारा चंद हैं और इस समिति को अपनी रिपोर्ट देने के लिए एक और हफ्ते का समय दिया गया है। उसके बाद उमर के कोई फैसला करने और अगले हफ्ते राज्य कैबिनेट में इस मुद्दे पर विचार किए जाने की संभावना है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You