नक्सलियों के खिलाफ लामबंद ग्रामीण, करेंगे अब पुलिस की मदद

  • नक्सलियों के खिलाफ लामबंद ग्रामीण, करेंगे अब पुलिस की मदद
You Are HereNational
Tuesday, January 28, 2014-4:41 PM

रायपुर: छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित जशपुर जिले के ग्रामीणों ने नक्सलियों से नाराज होकर पुलिस का साथ देने का फैसला कर लिया है। नक्सली प्रताडऩा से तंग ग्रामीण अब नक्सलियों खिलाफ खुलकर सामने आ गए हैं। पुलिस अधीक्षक जितेंद्र सिंह मीणा ने आज ‘भाषा’ को दूरभाष पर बताया कि जिले के आरा चौकी क्षेत्र के अंतर्गत ठुठी अंबा, टेपर टोली, अवरापाली और कटहल डांड के ग्रामीण पिपुल्स लिबे्रशन फ्रंट आफ इंडिया (पीएलएफआई) के खिलाफ एकजुट हो गए हैं। मीणा ने बताया कि क्षेत्र में 10 दिनों पहले नक्सलियों ने एक ग्रामीण की पिटाई कर दी थी।

 

ग्रामीण की पिटाई से नाराज गांववालों ने पीएलएफआई के खिलाफ एकजुट होने का फैसला किया और किसी भी तरह से मदद करने से इंकार कर दिया। उन्होंने बताया कि ग्रामीणों ने इस महीने की 23 तारीख को क्षेत्र में बैठक ली तथा क्षेत्र में होने वाली नक्सली गतिविधियों की जानकारी पुलिस को देने का फैसला किया। इसके बाद पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से 24 तारीख को क्षेत्र में घेराबंदी कर नक्सली सामान बरामद किया था। हालांकि नक्सली वहां से भाग गए थे।

 

पुलिस अधिकारी ने बताया कि ग्रामीणों ने कहा है कि वह क्षेत्र में पुलिस का पूरा साथ देंगे तथा नक्सली गतिविधि को बर्दास्त नहीं करेंगे। ग्रामीणों के मुताबिक नक्सली क्षेत्र में विकास के कार्य नहीं होने दे रहे हैं तथा आए दिन ग्रामीणों से मारपीट भी करते हैं। मीणा ने बताया कि आरा चौकी क्षेत्र छत्तीसगढ़ और झारखंड की सीमा में है। झारखंड के गुमला थाना क्षेत्र में सक्रिय पीएलएफआई छत्तीसगढ़ में बुधराम के नेतृत्व में कार्य करता है।

 

बुधराम का समूह यहां लेवी वसूली और अन्य कार्य करता है। इस दौरान उनका समूह ग्रामीणों से मारपीट और महिलाओं से छेडखानी भी करता है जिससे ग्रामीण परेशान हैं। पुलिस अधिकारी ने बताया कि आरा चौकी क्षेत्र दुर्गम है तथा यहां तक पहुंच के लिए सड़क निर्माण कार्य जारी है। क्षेत्र में नक्सली गतिविधि को रोकने के लिए पुलिस लगातार नक्सली विरोधी अभियान चला रही है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You