बुजुर्ग ही क्यों जाएं राज्यसभा: सज्जन वर्मा

  • बुजुर्ग ही क्यों जाएं राज्यसभा: सज्जन वर्मा
You Are HereNational
Tuesday, January 28, 2014-5:05 PM

इंदौर: कांग्रेस हाईकमान की ओर से चार बुजुर्ग नेताओं को राज्यसभा का उम्मीदवार बनाए जाने पर पार्टी के राष्ट्रीय सचिव व सांसद सज्जन सिंह वर्मा ने सवाल उठाए हैं। उनका कहना है कि पार्टी में बात तो युवाओं को आगे लाने की होती है, मगर राज्यसभा भेजने में बुजुर्गों को महत्व दिया जाता है। कांग्रेस ने मध्य प्रदेश से दिग्विजय सिंह, छत्तीसगढ़ से मोतीलाल वोरा, गुजरात से मधुसूदन मिस्त्री और महाराष्ट्र से मुरली देवड़ा को राज्यसभा उम्मीदवार बनाया है। वर्मा ने कहा, ‘‘कांग्रेस को परंपरा बदलना होगी।

 

हमारा मुकाबला भारतीय जनता पार्टी से है। भाजपा जहां युवाओं को मौका दे रही है, वहीं कांग्रेस में 70 वर्ष की उम्र पार कर चुके नेताओं पर दांव लगाया जा रहा है।’’ कांग्रेस सांसद का कहना है कि पार्टी नेतृत्व हमेशा युवाओं को आगे लाने की बात करता है, मगर ऐसा हो नहीं पा रहा है। हम 21वीं सदी में हैं, मगर बुजुर्ग नेताओं को महत्व दिए जाने से 20वीं सदी की ओर जा रहे हैं। पार्टी को युवाओं को मौका देना चाहिए था। पिछले दिनों मध्य प्रदेश व छत्तीसगढ़ में मिली हार का जिक्र करते हुए वर्मा ने कहा कि इन दोनों राज्यों में उन नेताओं को फिर राज्यसभा में जाने का मौका दिया गया जिनकी अगुवाई में पार्टी को हार का सामना पड़ा है।

 

यही हाल गुजरात में हुआ था, जहां से मिस्त्री को उम्मीदवार बनाया गया है। कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव ने पार्टी में परिवारवाद को बढ़ावा दिए जाने पर भी सवाल उठाया और कहा कि छत्तीसगढ़ में अरुण वोरा विधायक हैं और उनके पिता मोतीलाल वोरा राज्यसभा में भेजे जा रहे हैं, इसी तरह मध्यप्रदेश में जयवर्धन सिंह विधायक हैं और उनके पिता दिग्विजय सिंह राज्यसभा के उम्मीदवार बनाए गए हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You