फाइनैंसर के अपहरण की थी तैयारी

  • फाइनैंसर के अपहरण की थी तैयारी
You Are HereNational
Wednesday, January 29, 2014-1:29 AM
नई दिल्ली(कुमार गजेन्द्र): लाजपत नगर लूट कांड में शामिल बदमाश फाइनैंसर राहुल आहूजा के अपहरण की तैयारी करके आए थे। बदमाश मोटी रकम लूटने के अलावा राहुल को छोडऩे की एवज में भी रकम वसूलने वाले थे, लेकिन अचानक मंगलवार को फाइनैंसर का प्लान बदल गया और उन्होंने खुद रकम न जमा कर अपने मैनेजर को बैंक भेज दिया। 
 
दिल्ली पुलिस के एक आला अधिकारी के मुताबिक बदमाशों द्वारा इस्तेमाल की गई वेरना कार में पुलिस को कई ऐसी चीजें मिली हैं, जिनसे पता चलता है कि बदमाश फाइनैंसर के अपहरण की योजना बनाकर आए थे। पुलिस को हरियाणा नंबर की वर्ना कार डिफेंस कालोनी फ्लाईओवर पास लावारिश हालत में खड़ी मिली। कार की तलाश लेने पर पुलिस को उसकी डिग्गी में एक डबलबेड की चादर, दो दिल्ली नंबर की नंबर प्लेट, रस्सी, तौलिया, टेप और एक लोहे की रॉड व एक सिम बरामद हुई है। 
 
पुलिस का कहना है कि कार से बरामद यह सामान इशारा करता है कि बदमाश फाइनैंसर का अपहरण करने भी आए थे। लेकिन बदमाशों की योजना पर उस वक्त पानी फिर गया, जब उन्हें कार के अंदर फाइनैंसर राहुल आहूजा नहीं मिले। इसके बाद वह कार में रखे करीब 6 करोड़ रुपए की रकम को लेकर फरार हो गए। 
 
पुलिस का यह भी कहना है कि इस वारदात में कुछ लोकल बदमाश भी शामिल हो सकते हैं, जिस प्रकार से बदमाश वारदात को अंजाम देकर मौके से भागे हैं, उससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि बदमाशों को इस इलाके के सभी रास्तों की अच्छी जानकारी थी। 
 
इस वारदात में कार लुटेरे गिरोह के लोग भी शामिल हैं। बदमाशों ने जिन कारों वेरना और वैगनआर का वारदात में इस्तेमाल किया है, वह दोनों ही कार इसी माह (वैगनआर कार 24 जनवरी को जहांगीरपुरी और 25 जनवरी को वेरना कार मुंडका से लूटी गई थी) लूटी गई थीं। 
पुलिस की नजर कार लुटेरे गिरोह पर भी है, आखिर उन्होंने यह कारें बदमाशों के किस गिरोह को दी थीं।
 
पुलिस ने मामले को सुलझाने के लिए मौका ए वारदात से मोबाइल फोन का डंप डेटा भी उठाया है। पुलिस को शक है कि फाइनैंसर के लोगों में से ही कोई बदमाशों को राहुल और उसके मैनेजर के बारे में जानकारियां दे रहा था। 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You