प्रीति जिंटा के खिलाफ गैरजमानती वारंट के निष्पादन पर रोक लगाई

  • प्रीति जिंटा के खिलाफ गैरजमानती वारंट के निष्पादन पर रोक लगाई
You Are HereNational
Wednesday, January 29, 2014-9:57 AM

मुंबई: बंबई उच्च न्यायालय ने आज चेक बाउंस मामले में एक मजिस्ट्रेट के सामने पेश नहीं होने पर अभिनेत्री प्रीति जिंटा के खिलाफ जारी गैरजमानती वारंट के निष्पादन पर रोक लगा दी।  न्यायमूर्ति रेवती मोहित डेरे ने इस मामले में बयान दर्ज कराने के लिए उपस्थित नहीं होने पर प्रीति के खिलाफ कल अंधेरी मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट द्वारा जारी वारंट पर स्थगनादेश दिया।  प्रीति के अधिवक्ताओं विश्वजीत सावंत और सुभाष जाधव ने कहा, ‘‘जिंटा ने अपने वकीलों के जरिये अपना बयान दर्ज कराने के लिए अदालत से अनुरोध करने के लिए मजिस्ट्रेट के सामने आवेदन दायर किया था।

उच्चतम न्यायालय ने अपने एक फैसले में इसकी अनुमति दी है।’’  हालांकि, मजिस्ट्रेट ने आवेदन पर सुनवाई से इंकार कर दिया और जिंटा के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी कर दिया और इस मामले को 10 फरवरी को अगली सुनवाई तक के लिए स्थगित कर दिया।  अभिनेत्री ने आज वारंट को चुनौती देते हुए उच्च न्यायालय की शरण ली। 

जाधव ने कहा कि उच्च न्यायालय ने वारंट के निष्पादन पर रोक लगा दी और इस याचिका पर सुनवाई के लिए 30 जनवरी की तारीख तय की।  पटकथा लेखक अब्बास टायरवाला ने चेक बाउंस होने का मामला दर्ज किया था। शिकायत के अनुसार, जिंटा द्वारा उनकी फिल्म ‘इश्क इन पेरिस’ की पटकथा के लिए दिया गया 18 . 9 लाख रूपये का चेक बाउंस हो गया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You