‘राहुल अभी स्कूली मानसिकता से बाहर नहीं निकले’

  • ‘राहुल अभी स्कूली मानसिकता से बाहर नहीं निकले’
You Are HereNational
Wednesday, January 29, 2014-10:28 AM

मुजफ्फरनगर: भाजपा के पीएम पद के प्रत्याशी नरेंद्र मोदी की दो फरवरी को मेरठ में प्रस्तावित रैली की तैयारियों का जायजा लेने के लिए मुजफ्फरनगर आये पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और पूर्व केन्द्रीय मंत्री सत्यपाल मलिक ने कहा कि मेरठ की रैली में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 14 जनपदों से मोदी के विचारों को सुनने के लिए ऐतिहासिक जनसैलाब उम$डेगा। उन्होंने कहा कि देश की जनता देश को शर्मशार कराने वाले, देश का आत्मसम्मान बेच देने और देश की जनता को घोटालों, भ्रष्टाचार और महंगाई के जाल में फंसाकर रख देने वाली सरकारों और दलों से तंग हो चुकी है और देश को विकास के साथ ही उसकी रक्षा और उसके आत्मसम्मान को बचाने वाले नेता को ढंूढ रही है और यह नेतृत्व केवल नरेंद्र मोदी ही देश को दे सकते हैं। आज देश में बदलाव की बयार बह रही हैं।

नई मण्डी में एक रेस्टोरेंट पर पत्रकारों से वार्ता करते हुए पूर्व मंत्री मलिक ने कहा कि दो फरवरी को मेरठ में एक ब$डा और ऐतिहासिक आयोजन होने जा रहा है। आज देश के सामने अनेक प्रासांगिक सवाल खड़े हुए हैं और इन्हीं सवालों को लेकर नरेंद्र मोदी रैली के दौरान अपने विचार रखेंगे। उन्होंने कहा कि आज देश ऐसे नेतृत्व की तलाश कर रहा है, जो देश को विकास से पहले सुरक्षा और इसके आत्मसम्मान को बचाने का काम करे। आज संप्रग सरकार के खिलाफ पूरे देश में गुस्से का माहौल बन रहा है और बदलाव की बयार बह रही है, देश को मजबूत नेतृत्व केवल भाजपा ही दे सकती है और देश की जनता नरेंद्र मोदी में नेतृत्व की छवि देख रही है। उन्होंने कहा कि वे यहां मेरठ रैली की तैयारियों की समीक्षा करने के लिए आये हैं और यहां रैली की तैयारियों को लेकर संगठन और कार्यकर्ता अधिक उत्साहित हैं।

जनपद के हर गांव से रैली में भागीदारी सुनिश्चित की जायेगी। भारी संख्या में लोग मेरठ पहुंचेंगे। उन्होंने दंगों के दौरान गैंगरेप के छह मामलों में जिला प्रशासन पर एक तरफा कार्यवाही करने का आरोप लगाते हुए कहा कि जिला प्रशासन अब फिर से अनैतिक रवैया अख्तियार करते हुए अच्छी बातें नहीं कर रहा है, जिससे समाज में फिर रोष उत्पन्न हो रहा हैऔर प्रशासनिक व पुलिस के रवैये के चलते जनपद के देहात में अफरा-तफरी का आलम बन रहा है। मलिक ने कहा कि बलात्कार घिनौना कार्य है और हमारी पार्टी ऐसी घटनाओं की निंदा करती है, लेकिन ऐसे मामलों में बिना जांच पड़ताल किये ही निर्दोषों को फंसाया जा रहा है, उनके कुर्की वारंट जारी कर दिये गये हैं। जो समाज नहीं होने देगा। इस कार्रवाई के खिलाफ शाहपुर क्षेत्र में पंचायत बुलायी गयी है और इस पंचायत में मलिक खाप के मुखिया हरियाणा निवासी बलजीत सिंह भी सैंक$डों ग्रामीणों के साथ भाग लेने का ऐलान कर चुके हैं और गिरफ्तारी होने पर हरियाणा से किसानों के बॉर्डर कूच का ऐलान भी किया जा चुका है, ऐसे में प्रशासन का संवेदनशीलता को समझते हुए निर्दोषों के खिलाफ एकतरफा कार्रवाई के रवैये को रोकना चाहिए।

पूर्व मंत्री मलिक ने शिविर संचालकों पर भी गम्भीर आरोप लगाते हुए कहा कि पीड़ित परिवार अपने गांव और घर लौटना चाहते हैं, लेकिन शिविरों में ही रहने के लिए उनको विवश कि या जा रहा है और विरोध करने पर उनकी पिटाई तक की जाती है। कुछ लोग गांव में इसलिए नहीं जा रहे हैं कि उन्होंने दूसरे समुदाय के लोगों से कर्ज ले रखे हैं और गांव में जायेंगे तो उनके द्वारा दर्ज कराये गये झूठे मुकदमों को वापस लेना पड़ेगा। मलिक ने कहा कि प्रशासन का रवैया नहीं बदला तो भाजपा मोदी की रैली के उपरांत जनपद में ब$डा आंदोलन छेड$ेगी। राहुल गांधी के पीएम प्रत्याशी नहीं बनने के सवाल पर मलिक ने कहा कि राहुल अभी स्कूली मानसिकता से ही बाहर नहीं निकले हैं और उनके पिता राजीव गांधी ने एक बच्चे की भांति ही देश को चलाने का काम किया और वो विफल साबित हुए।

इसी के चलते राहुल ने पीएम बनने से इंकार किया है। राहुल अभी इस पद के काबिल नहीं है। उन्होंने कहा कि कुछ दस केवल व्यक्ति विशेष के नेतृत्व तक सीमित है, जबकि भाजपा एक संगठन है, जहां आम कार्यकर्ता भी अपनी हैसियत रखता है। आप के वजूद को लेकर उन्होंने कहा इस पार्टी ने जो सवाल उठाये हैं, उनमें से काफी कुछ सही है और राजनीतिक दलों को उनके सम्बंध में गम्भीरता से विचार करना चाहिए, लेकिन इस पार्टी ने टाई लगाने वालों के सिर पर टोपी और उद्योगपतियों के हाथों में झाडू थमा दी है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में परिवारवाद हावी है और अन्य वरिष्ठ नेताओं को उसने इसलिए ही किनारे कर दिया है। जबकि भाजपा संघ की नैतिक गाइडलाइन को लेकर कार्य करती है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You