पिता का शव वापिस लाने के लिए सोनिया को लिखा पत्र

  • पिता का शव वापिस लाने के लिए सोनिया को लिखा पत्र
You Are HereNational
Wednesday, January 29, 2014-11:19 AM

वड़ोदरा: पाकिस्तान की एक जेल में पिछले महीने दम तोडऩे वाले भारतीय मछुआरे की 12 वर्ष की बेटी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से अनुरोध किया है कि वह उसके पिता का शव वापस लाने में मदद करें। जूनागढ़ जिले की भाविका शियाल ने संप्रग अध्यक्ष को पत्र लिखकर उनसे अनुरोध किया है कि वह उसके पिता भीखा लाखा का शव वापस लाने में मदद करें ताकि उनका अंतिम संस्कार किया जा सके।

लाखा की कराची के एक जेल में 19 दिसंबर को मौत हो गई। उसके परिवार को इसकी सूचना चार जनवरी को मिली। भाविका की मां देवुबेन की दो वर्ष पहले ही मौत हो चुकी है और अब यह बच्ची अपने तीन वर्ष के भाई पिनाक के साथ एक रिश्तेदार के साथ रहती है।

भाविका ने फोन पर मीडिया से कहा, ‘‘मैं सोनिया जी से इसलिए संपर्क कर रही हूं क्योंकि एक मां होने के नाते वह मेरी और मेरे तीन वर्ष के भाई की तकलीफों को समझेंगी । माता-पिता की मौत के कारण महज दो वर्ष में हम अनाथ हो गए हैं ।’’उसने कहा, ‘‘मैं और मेरा भाई अपनी रिश्तेदार सोना परमार के साथ रह रहे हैं । 25 अक्तूबर को मछली पकडऩे जाते हुए हमारे पिता हमें उन्हीं के पास छोड़ गए थे ।’’

उसने कहा कि चार जनवरी को मेरे पिता की मौत की दुखद सूचना मिलने के बाद से ही हमारा पूरा परिवार उनके शव का इंतजार कर रहा है ताकि उनका अंतिम संस्कार किया जा सके। उसने यह भी कहा कि पिछले पत्र में उसके पिता ने कहा था कि वह बिल्कुल ठीक हैं और चिंता करने को कोई बात नहीं है । उसमें किसी बीमारी का भी जिक्र नहीं था जिससे उन्हें परेशानी हो रही हो। भाविका ने मांग की है कि उसके पिता की यूं अचानक हुई मौत की जांच की जानी चाहिए ।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You