केजरीवाल ने भुल्लर की सजा माफ करने का राष्ट्रपति से किया आग्रह

  • केजरीवाल ने भुल्लर की सजा माफ करने का राष्ट्रपति से किया आग्रह
You Are HereNational
Wednesday, January 29, 2014-8:02 PM

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने खालिस्तान लिबरेशन फोर्स (केएलएफ) के आतंकवादी देविंदर सिंह भुल्लर की फांसी की सजा माफ करने का आग्रह राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी से किया है।

केजरीवाल ने प्रणव को भेजे पत्र में आग्रह किया है कि वह भुल्लर की फांसी की सजा माफ कर दें। दिल्ली के मुख्यमंत्री के इस कदम को आगामी लोकसभा चुनावों के मद्देनजर सिख मतदाताओं को आम आदमी पार्टी के पक्ष में लुभाने का राजनीतिक प्रयास बताया जा रहा है।   वर्ष 1993 में दिल्ली में बम धमाके के दोषी भुल्लर के मृत्युदंड को आजीवन कारावास में तब्दील करने को लेकर पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने भी गुहार लगाई थी। बम धमाके में नौ लोगों की मौत हो गई थी और 25 घायल हुए थे। घायलों में युवक कांग्रेस के तत्कालीन अध्यक्ष एम एस बिट्टा भी शामिल थे।

मुख्य न्यायाधीश पी सदाशिवम, न्यायमूॢत आर एम लोढा, न्यायमूॢत एच एल दत्तू और न्यायमूॢत एस जे मुखोपाध्याय की खंडपीठ ने कल भुल्लर की पत्नी नवनीत कौर की ओर से दायर संशोधन याचिका की सुनवाई आगामी 31 जनवरी को खुली अदालत में करने का फैसला किया है।

नवनीत कौर ने अपने पति के मृत्युदंड को आजीवन कारावास में तब्दील करने का न्यायालय से आग्रह किया है। याचिकाकर्ता ने शीर्ष अदालत के उस फैसले का हवाला दिया है। जिसमें उसने क्षमा याचिका में अनावश्यक विलम्ब और मानसिक रोग को फांसी की सजा को आजीवन कारावास में तब्दील करने का पर्याप्त आधार माना था।

निचली अदालत ने अगस्त 2001 में भुल्लर को फांसी की सजा सुनाई थी। जिसे दिल्ली उच्च न्यायालय ने 2002 में बरकरार रखा था। उच्चतम न्यायालय ने 26 मार्च 2002 को हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ भुल्लर की अपील खारिज कर दी थी। शीर्ष न्यायालय ने 17 दिसम्बर 2002 को भुल्लर की पुनरीक्षण याचिका और 12 मार्च 2003 को संशोधन याचिका भी खारिज कर दी। इसी बीच उसने 14 जनवरी 2003 को राष्ट्रपति के समक्ष क्षमा याचिका दायर कर दी थी, लेकिन आठ वर्ष के बाद 14 मई 2011 को उसे वहां से भी राहत नहीं मिली थी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You